कॉर्पोरेट जगत की पकड़ सारी दुनिया पे इस कदर बढती जा रही हे के कोई “कॉर्पोरेट” शब्द से अनजान नहीं हे. इसमें काम करने वाले लोगों में कुछ लोग कॉर्पोरेट सफलता को इतनी तवज्जो देते हैं के इसे अपनी जीवन की सफलता मान बैठ ते हैं. कॉर्पोरेट जीवन रोज़गार का एक तरीका है पर साथ ही ये एक नशा बनता जारहा है नोजवानो के लिए. सुविधाए और आराम के चक्कर में नोजवान कॉर्पोरेट वर्ल्ड की पोलिटिक्स समझ नहीं पाते और counfused हो क खुद को ही टेंशन में डाल बैठ ते हैं .

आईये इसी कॉपोरेट वर्ल्ड की उचाईयों और गहराईयों से अवगत हो.पेश है कुछ तरीके ऑफिस पोलिटिक्स में survival के .

गुरु मंत्र :एक गुरु या सलाहकार हमेशा आपके पास रहे, एक कॉल पे उपलब्ध हो ,सलाह मशविरे के लिए .कोई विश्वास पात्र दोस्त भी गुरु हो सकता है.जिस कंपनी में आप काम कर रहे हैं उसी कंपनी में भूल से भी किसी को विश्वास पात्र समझ के अपने राज़ शेयर करने या सलाह लेने की कोशिश न करे .याद रखे !आप कॉर्पोरेट में काम करने आये हैं दोस्त बनाने नहीं.

कंपनी कल्चर मंत्र :कंपनी के कल्चर को जान ने की कोशिश करें कंपनी के मिशन और एम्स .वहा काम करने वालो की भाषा ,ड्रेसिंग स्टाइल. जो लोग कंपनी में सफल या प्रसिद्ध हे उनकी पेर्सोनालिटी और काम करने का ढंग ओब्सेर्वे करें.

डोक्युमेंट मंत्र :अगर आपको कोई भी मामला संदिग्ध लग रहा हे तो हर मेटर के लिखित डोक्युमेंट प्रूफ के लिए तैयाररखें .लिखित प्रूफ आपको भविष्य में होने वाली परेशानियों से बचाएगा और आपकी कॉर्पोरेट इमेज को मज़बूत करेगा .

नो गोस्सिप मंत्र :गोस्सिपिंग या इधर की बात उधर करना आपको टाइम पास लग सकता हो ,पर ये बड़ा आसन तरीका हे कंपनी इमेज में धूमिल करने का .इसीलिए “नो गोस्स्पिंग”का मंत्र अपनाइए और बेफिक्र रहिये.

टीम वर्क मंत्र :टीम के साथ काम करना और सफलता के बाद टीम को क्रेडिट देना न भूले . ये रामबाण तरीका हे अपने साथियों को को खुश और संतुष्ट रखने का.टीम के लीडर अगर हैं तो टीम की पर्सोनल ज़रूरतों का थोडा ध्यान रखें.हेल्पिंग स्वभाव रखें

.रेडी फॉर चेंज मंत्र :परिवर्तन ज़िन्दगी का नियम हे. तोकॉपोरेट में क्यों न हो .हमेशा दिल को उतार चढाव के लिए तैयार रखिये .मेंटली प्रिप्रेयर रहिये .

अपडेट रहने का मंत्र :चाहे कितना ही निराश हो पर कंपनी के होने वाले चेंज और विरोधी कंपनी के प्लान्स से अपडेट रहिये.इससे आपको सकारात्मक सोच मिलेगी और कांफिडेंस भी बढेगा

नो अल्कोहल मंत्र :कंपनी क भूल भुलैयां भरे रास्तों में कही भी किसी भी प्रॉब्लम से घबरा के किसी नशे की तरफ रुख कभी मत कीजिये,नहीं तो आगे चल के ये आपके लिए ही हानिकारक साबित होगा .

कंपनी को एक फॅमिली की तरह मान के चलिए जहा सब साथ में किसी एक लक्ष्य को ले के आगे बढ़ते जाइये .

LEAVE A REPLY