रामलीला मैदान में अपना अनशन कर रहे सामाजिक कार्यकर्ता अन्ना हज़ारे ने कहा है कि अगर संसद के मौजूदा सत्र में जनलोकपाल विधेयक पेश नहीं किया, तो अनशन जारी रहेगा

शुक्रवार को तिहाड़ जेल से रामलीला मैदान पहुँचे अन्ना हज़ारे ने पत्रकारों के साथ बातचीत में कहा कि सरकार गूंगी-बहरी हो गई है और इसी कारण उन्होंने अभी तक जनलोकपाल विधेयक पर ध्यान नहीं दिया. अन्ना हज़ारे ने कहा कि सरकार संसद और स्थायी समिति में बहुमत में है. लेकिन उन्होंने अपना आख़िरी निर्णय ले लिया है. उन्होंने कहा, “मैंने आख़िरी निर्णय ले लिया है. अगर इस सत्र में पेश नहीं हुआ, तो अनशन जारी रहेगा. जब तक शरीर में प्राण है, ये अनशन जारी है. दिल दिया है जान भी देंगे ऐ वतन तेरे लिए. पीछे हटेंगे नहीं, पीछे हटने का सवाल ही नहीं है. सरकार को क्या करना है, उस पर कुछ नहीं कहना.” अन्ना हज़ारे ने कहा कि वे तो अभी जनसंसद के सामने आए हैं, जनसंसद को वे अपील करते हैं. सरकार ने 30 अगस्त तक बिल पास नहीं किया, तो वे देशभर के लोगों से अपील करते हैं कि लोग जेल भरें.  इस संवाददाता सम्मेलन में अन्ना हज़ारे के सहयोगी अरविंद केजरीवाल और प्रशांत भूषण भी मौजूद थे.  अरविंद केजरीवाल ने भी केंद्र सरकार पर निशाना साधा और कहा कि सरकार अन्ना हज़ारे से नहीं बल्कि लोगों से घबराई है. उन्होंने कहा कि ग़ैर सरकारी संगठनों के लोकपाल के दायरे में लाने पर कोई आपत्ति नहीं है, लेकिन लोकपाल का दायरा इतना नहीं बढ़ा देना चाहिए, जिससे समस्या पैदा हो.

अरविंद केजरीवाल ने कहा कि एनजीओ के लिए पहले से कई क़ानून मौजूद हैं.

रामलीला पहुँचे अन्ना हज़ारे

तिहाड़ जेल में तीन दिन बिताने के बाद सामाजिक कार्यकर्ता अन्ना हज़ारे लोगों की भारी भीड़, नारेबाज़ी और देशभक्ति के गीत के बीच रामलीला मैदान पहुँचे. दिल्ली पुलिस ने अन्ना हज़ारे को रामलीला मैदान में 15 दिनों के अनशन की अनुमति दी है. लेकिन बारिश के बीच लोगों की भारी भीड़ को संबोधित करते हुए अन्ना हज़ारे ने कहा कि जब तक लोकपाल बिल नहीं आएगा, वे मैदान नहीं छोड़ेंगे.

मैंने आख़िरी निर्णय ले लिया है. अगर इस सत्र में पेश नहीं हुआ, तो अनशन जारी रहेगा. जब तक शरीर में प्राण है, ये अनशन जारी है. दिल दिया है जान भी देंगे ऐ वतन तेरे लिए. पीछे हटेंगे नहीं, पीछे हटने का सवाल ही नहीं है. सरकार को क्या करना है, उस पर कुछ नहीं कहना           “अन्ना हज़ारे”

 

फोटो , खबर . सो.: याहू& बी.बी.सी.

 

LEAVE A REPLY