किशनगढ़से अहमदाबाद के मध्य सिक्स लेन बनाने का काम शुरू होने के साथ ही फोरलेन के समय लगाए गए पेड़ों को काटने का सिलसिला शुरु हो गया है। सिक्स लेन बनाने से 555 किलोमीटर में 18,830 पेड़ काटे जाएंगे। सिक्स लेन का काम शुरू होने से पहले अभी कई जगह पेड़ काटने का काम चल रहा है। फोरलेन बनाते समय जो पेड़ इसके दायरे में आए थे उनकी जगह नए पेड़ लगाए गए थे। अब सिक्स लेन बनाते समय फोरलेन के दोनों तरफ बड़े हो चुके पेड़ों को काटा जा रहा है। इस संबंध में एनएचएआई के प्रोजेक्ट डायरेक्टर एचके भट्‌ट ने बताया- हम एक पेड़ के बदले दो पेड़ लगाएंगे। पेड़ लगाने का काम वन विभाग करेगा इसलिए एनएचएआई ने इसके लिए राशि वन विभाग को दे दी है।

7 चरणों में होगा सिक्सलेन का काम

राजस्थान में किशनगढ़ से गुलाबपुरा तक 90 किलोमीटर, गुलाबपुरा से चित्तौडगढ़ तक 124.87 किलोमीटर, चित्तौडगढ़ से उदयपुर बाईपास (देबारी) तक 93.50 किलोमीटर, उदयपुर बाईपास (देबारी) से उदयपुर बाईपास (काया) तक 23.88 किलोमीटर तक और उदयपुर बाईपास (काया) से गुजरात बॉर्डर तक 113.80 किलोमीटर तक निर्माण करवाया जाएगा। आगे के दो चरण गुजरात में अहमदाबाद तक होंगे।

LEAVE A REPLY