DSC_000365वें गणतंत्र दिवस के अवसर पर वेदान्ता समूह की कम्पनी हिन्दुस्तान जिंक के प्रांगण में श्री राजेन्द्र पण्डवाल, कंपनी सेक्रट्री ने कर्मचारियों तथा उनके परिजनों की उपस्थिति में राष्ट्रीय ध्वज फहराया तथा शुभकामनाएं दी। इस अवसर पर श्री पण्डवाल ने कर्मचारियों को संबोधित करते हुए कहा कि भारत की जनता ने एक सार्वभौमिक, लोकतांत्रिक गणतंत्र के रूप में अपनी पहचान स्थापित की। विभिन्न धर्मों, संप्रदायों, जातियों और संस्कृतियों वाले विषाल देष के लिए यह मार्ग काफी कठिन था, लेकिन हमारे संविधान ने बिना भेदभाव किए सभी को आगे बढ़ने का समान-अवसर दिया जिससे देष के ताने-बाने को मजबूती मिली।
DSC_0006श्री पण्डवाल ने बताया कि कंपनी के लिए वर्ष 2013 खदान उत्पादन के क्षेत्र में उपलब्यिों के लिए जाना जाएगा। हिन्दुस्तान जिंक ने आगामी सत्र की विस्तार योजनाओं को स्वरूप दे दिया है जिसके तहत हम भूमिगत शाफ्ट तथा भूमिगत खदानों को विकसित करेंगे। भूमिगत खदानों के विस्तार में, रामपुरा-आगूचा खदान, सिन्देसर खुर्द खदान, जावर खदान, राजपुरा-दरीबा खदान तथा कायड़ खदान का प्रतिवर्ष विस्तार का कार्य योजनानुसार प्रगति पर है।
उन्होंने कहा कि जस्ता उत्पादन में कंपनी का भारत में और विष्व में नेतृत्व की स्थिति को सषक्त रूप से बरकरार रखने के लिए हम लगातार प्रयास करते रहेंगे।
सामुदायिक एवं समाज के उत्थान को ध्यान में रखते हुए वंचित बच्चों, ग्रामीण महिला सषक्तिकरण, कृषि विकास, जल एवं स्वच्छता, बेरोजगार युवाओं के लिए रोजगार प्रषिक्षण आदि के प्रति कंपनी कटिबद्ध है तथा इनके विकास के लिए अनेकों योजनाएं क्रियान्वित हैं। ग्रामीण क्षेत्रों में सामाजिक एवं आर्थिक स्थिति में उत्थान के लिए कंपनी 30,000 बीपीएल ग्रामीण परिवारों के घरों में शौचालय का निर्माण कर रही है तथा 500 से अधिक युवाओं के लिए स्वरोजगार प्रषिक्षण प्रदान करने का कार्य भी प्रगति पर है।
इस अवसर पर श्री पण्डवाल ने कहा कि कर्मचारियों एवं मजदूर संघ द्वारा दिये जा रहे निरन्तर सहयोग एवं सहकार की हृदय से प्रशंसा करता हूँ जिससे कम्पनी को अभूतपूर्व सफलता मिली है। मुझे पूरा विश्वास है कि आपका यह सहयोग एवं सहकार हमें सदैव मिलता रहेगा और 2014 में भी आप सभी के कर्त्तव्यनिष्ठा एवं सम्पूर्ण सहयोग से हम नये कीर्तिमान स्थापित करेंगे।
इस अवसर पर हिंदजिंक परिवार के बच्चों ने कविता, संगीत एवं देश-भक्ति गीतों की प्रस्तुतियां भी दी।

LEAVE A REPLY