उदयपुर .हिन्दुस्तान जिंक अपने सामाजिक उत्तरदायित्व के तहत हिन्दुस्तान जिंक के प्रधान कार्यालय स्थित आॅडिटोरियम में सोमवार को यषद सुमेधा स्काॅलरषिप चेक वितरण कार्यक्रम आयोजित किया गया। कार्यक्रम के दौरान हिन्दुस्तान जिंक के हेड-प्रोजेक्टस महेश टोडकर, एसोसिएट वाइस प्रसीडेन्ट-एच.आर. संजय शर्मा, सीएसआर हेड श्रीमती नीलिमा खेतान एवं डिप्टी हेड-एच.आर. सुश्री ज्यता राॅय ने 87 विद्यार्थियों को यषद सुमेधा स्काॅलरषिप के 20 लाख रुपये का चेक प्रदान किये।

कार्यक्रम के प्रारंभ में सुमेधा की सचिव रश्मि जैन ने सुमेधा स्काॅलरशिप के बारे में विस्तार से जानकारी देते हुए बताया कि सुमेधा संस्था का उद्देष्य आर्थिक रूप से कमजोर परिवार के प्रतिभाशाली बच्चों को उच्च षिक्षा प्राप्त करने के लिए वित्तीय सहायता प्रदान कर उच्च षिक्षा के लिए प्रोत्साहित करना है। रशिम जैन ने इस नैतिक कार्य के लिए हिन्दुस्तान ज़िंक द्वारा दी जा रही वित्तीय सहायता के लिए भी सराहना की।

कार्यक्रम में हिन्दुस्तान ज़िंक के हेड-प्रोजेक्टस महेश टोडकर एवं डिप्टि हेड-एच.आर. सुश्री ज्यता राॅय ने अपने उद्बोधन में सभी विद्यार्थियों से कड़ी मेहनत, परिश्रम एवं लगन से अपने जीवन में लक्ष्य प्राप्त करने के लिए प्रोत्साहित किया। हिन्दुस्तान जिंक विगत वर्षों से यशद सुमेधा स्काॅलरशिप में अपना महत्वपूर्ण योगदान दे कर छात्र-छात्राओं को उच्च शिक्षा के लिये प्रोत्साहित कर रहा है।

इस अवसर पर हिन्दुस्तान जिंक की सी.आर. हेड श्रीमती नीलिमा खेतान ने बताया कि इस योजना के तहत उच्च शिक्षा प्राप्त करने वाले राजस्थान के योग्य विद्यार्थियों को यषद सुमेधा स्काॅलरशिप के लिए चयन किया है। इस हेतु परिवार की वार्षिक आय 2.50 लाख रुपये से कम तथा उच्च शिक्षा में 75 प्रतिशत अंक प्राप्त करने वाले छात्रों का चयन किया जाता है। राजस्थान के अजमेर, भीलवाडा़, चित्तौड़गढ़, राजसमंद एवं उदयपुर जिलों के छात्र-छात्राओं का सरकारी इंजीनियरिंग काॅलेजों में अध्ययनरत विद्यार्थियों का चयन किया गया है। उन्होंने ऐसे छात्र-छात्राओं को अधिक से अधिक सहायता उपलब्ध करवाने का आश्वसन दिया।

इस अवसर पर सीटीएई इंजीनियरिंग काॅलेज उदयपुर की छात्राएं मोनिका शक्तावत तथा गुलनाज़ रसिया एवं भीलवाड़ा इंजीनियरिंग काॅलेज के छात्र अक्षत ने हिन्दुस्तान जिंक़ को यशद सुमेधा योजना के लिये धन्यवाद दिया तथा सराहना की। उन्होंने अपने विचार व्यक्त करते हुए कहा कि भारत में टेलेन्ट की कमी नहीं है बल्कि उच्च शिक्षा प्राप्त करने के लिए वित्तीय सहायता की जरूरत है। आर्थिक सहायता से वंचित बच्चों का विकास किया जा सकता है।

कार्यक्रम में सुमेधा के बोर्ड सदस्य श्री महेन्द्र मेहता, हिन्दुस्तान जिंक़ के एसोसिएट वाईस पे्रसीडेन्ट-एच.आर श्री संजय शर्मा, सहित जिं़क के वरिष्ठ अधिकारी एवं कर्मचारी, विद्यार्थियों के अभिभावक उपस्थित रहे।

इस अवसर पर इन सभी विद्यार्थियों ने ज़िंक स्मेल्टर देबारी में नंदघर का भ्रमण कर जानकारी ली।

हिन्दुस्तान जिंक के हेड-कार्पोरेट कम्यूनिकेषन पवन कौषिक ने बताया कि वेदान्ता समूह के चेयरमैन श्री अनिल अग्रवाल की सोच है कि युवा देश का भविष्य है जिन्हें आगे बढ़ने के लिए अवसर प्रदान कराना आवष्यक है। देश में प्रत्येक बच्चे को शिक्षा एवं अच्छा स्वास्थ्य उपलब्ध कराने के अनुरूप ही यशद सुमेधा स्काॅलरषिप उन बच्चों के विकास में सहायक सिद्ध होगी जो कि ग्रामीण क्षेत्र की निखरती प्रतिभाएं है। हिन्दुस्तान जिंक अपने सामाजिक उत्तरायिदत्व के तहत ऐसे कार्यों के लिए समय-समय पर आर्थिक सहायता प्रदान करता रहा है।

ज्ञातव्य रहे कि राजस्थान के पूर्व मुख्य सचिव स्व. श्री एम.एल. मेहता ने सुमेधा की स्थापना 1998 में की थी। सुमेधा संस्था का उद्देष्य आर्थिक रूप से कमजोर परिवार के प्रतिभाषाली बच्चों को उच्च षिक्षा प्राप्त करने के लिए वित्तीय सहायता प्रदान कर उच्च षिक्षा के लिए प्रोत्साहित करना है। अभी तक इस संस्था ने 6000 से अधिक छात्रों की सहायता कर चुकी है।

LEAVE A REPLY