उदयपुर। राजनैतिक पार्टी भाजपा और कांग्रेस द्वारा मुस्लिम हितों की अनदेखी के चलते उदयपुर अंजुमन तालिमुल इस्लाम ने राजनैतिक पार्टियों के खिलाफ ताल ठोक दी है। संभाग भर के अंजुमन पदाधिकारी अब तय करेगें कि जो राजनैतिक पार्टी मुस्लिम हितों की रक्षा करेगी चुनाव में मुस्लिम समाज उन्ही का साथ देगा। मुस्लिम समाज को वोटिंग के समय एक दिन के लिए इस्तेमाल करने वालों के साथ अब मुस्लिम समाज नहीं रहेगा।
इस घोषणा का एलान आज उदयपुर अंजुमन तालिमुल इस्लाम के पदाधिकारियों ने प्रेस वार्ता के दौरान किया। उदयपुर अंजुमन तालिमुल इस्लाम के सदर मोहम्मद खलील ने कहा कि चाहे कांग्रेस हो या भाजपा हो मुस्लिम समाज को सिर्फ एक दिन वोटिंग के समय इस्तेमाल करते है। बाद में बाकी पांच साल तक मुस्लिम हितों को ताक पर रख कर पुरे समाज को एक तरह से भुला दिया जाता है। ना तो कोई प्रतिनिधित्व दिया जाता ना ही सरकारी सुविधाओं और किसी संवैधानिक पद या पार्टी के पद पर भी मनोनीत नहीं किया जाता। जो पार्टी पुरे पांच साल तक मुस्लिम समाज को एक छूत की तरह दूर रखती है वह पार्टी चुनाव आते ही कुछ दिनों के लिए मुस्लिम समाज को गलबहियां कर पास बुलाती है। लेकिन अब ऐसा नहीं होगा। जब तक कोई भी राजनैतिक दल मुस्लिमों के हितों की रक्षा का वादा कर उसको पूरा करने का आश्वासन नहीं देता तब तक मुस्लिम समाज उस पार्टी के साथ नहीं जाएगा। सेक्रेटरी रिज़वान खान ने बताया कि मुस्लिम समाज को एक मंच पर लाने के लिए अन्जुमन की ओर से शहर के सभी मुस्लिम समाजों मुस्लिम तंजीम मोहल्लों के सदर सैकेट्री व राजनैतिक पार्टियों के प्रमुखों की बैठक रखी गई। जिसमें विचार विमर्श के बाद निर्णय लिये गये। इनमें प्रमुख रूप से सरकार के समक्ष यह मांग रखी जायेगी कि सरकार द्वारा मुस्लिमों को संभागीय स्तर पर प्रतिनिधित्व दिया जावें जो आज तक किसी सरकार ने नहीं दिया है। इसके अलावा आगामी विधानसभा चुनाव में अन्जुमन संभागीय दौरा कर मुस्लिमों से आग्रह कर जिस प्रकार संभाग में चांद दिखने पर एक साथ अपने त्यौहार मनाता है उसी तरह चुनाव में एकजुट होकर मुस्लिम हितैषी दल व प्रत्याशी को समर्थन देने की धोषणा करेगा।
अन्जुमन की ओर से एक मंच से आवाज उठाने वाले मुस्लिम समाज का संभाग स्तरीय जागरूकता सम्मेलन आगामी जून माह में करने का निर्णय लिया गया। इस सम्मेलन में गैर राजनितिक वक्ता व औलमाओं को बुलाया जायेगा। इसके अलावा राजस्थान में आॅल राजस्थान अन्जुमन बोर्ड को राज्य सरकार द्वारा मान्यता देने की मांग भी रखी जायेगी।
पत्रकार वार्ता के दौरान अन्जुमन के सदर मोहम्मद खलील, सेकेट्री मोहम्मद रिजवान खान, प्रवक्ता जहिरूदिन सक्का, नायब सदर मुनव्वर, जोइन्ट सैकेेट्री वकार शेख, खजांची मन्जुर हुसैन, तालीम कन्वीनर सैयद मुर्तजा हुसैन, काबिना सदस्य आबिद खान पठान, मोहम्मद अकीलूददीन, मोहसिन सिददकी, नजर मोहम्मद, तबरेज खान, रियाज हुसैन, नजमा मेवाफरोश, पूर्व सैकेट्री फारूक हुसैन, मोहम्मद खलील रिजवी, इकबाल सिपाही आदि

LEAVE A REPLY