पोस्ट न्यूज़ बांसवाडा . वेतन विसंगतियों को लेकर प्रदेश भर के पुलिस कर्मी मेष का बहिष्कार कर विरोध जता रहे है . शुक्रवार को बांसवाडा के युवा कांग्रेसी भी वेतन की विसंगतियों से झूझ रहे पुलिस कर्मियों के समर्थन में उतर आये . बांसवाडा जिले युवा कांग्रेसी कार्यकर्ता और पदाधिकारियों ने पुलिस कर्मियों की मांगों को माने जाने की मांग को लेकर जिला कलेक्टर को राज्यपाल के नाम ज्ञापन सोंपा .
देश में पुलिस विभाग में कार्यरत हैडकांस्टेबल व कांस्टेबलों के वेतन में कटौती तथा जुलाई से रोकी गई वेतन वृद्धि समेत समेत कुछ मांगो को लेकर जिले भर के पुलिस थानों में कार्यरत हैडकांस्टेबल व कांस्टेबलों ने विगत कुछ दिनों से मैस का बहिष्कार किया तथा विरोध स्वरूप काली पट्टी बांध कर डय़ूटी पर रहे। पुलिस कर्मचारियों के समर्थन में युवा कांग्रेस ने अध्यक्ष नटवर तेली के नेतृत्व में राज्यपाल के नाम ज्ञापन जिला कलेक्टर को सौंपा। नटवर तेली ने कहा कि पूर्व मुख्यमंत्री अशोक गहलोत द्वारा महंगाई व काम को देखते हुए राजस्थान पुलिस कांस्टेबल के वेतन में वृद्धिं की थी ज़िसको वर्तमान भाजपा सरकार द्वारा कटौती करने की तैयारी की जा रही है. जिसके विरोध में राजस्थान पुलिस कांस्टेबल के द्वारा विगत कुछ दिनों से हाथों पर काली पट्टी बंद कर, मेस का बहिष्कार कर विरोध प्रदर्शन किये जा रहे है. लेकिन वर्तमान सरकार के कानों पर जू तक नहीं रेंगी है तथा सरकार ने इस और अपना ध्यान नहीं दिया जिस पर कुछ कांस्टेबलों द्वारा मुंडन भी करा कर विरोध किया गया लेकिन इसके बावजूद वर्तमान सरकार द्वारा राजस्थान पुलिस कांस्टेबल की पीड़ा को नहीं सुना जा रहा है .  जिससे प्रदेश में अशांति का माहौल फैला हुआ है । ज्ञापन में कहा  की यदि समस्या का समाधान नहीं हुआ और उनकी सुनवाई नहीं हुई तो आंदोलनात्मक रुख अपनाया जाएगा।
ज़िला प्रवक्ता एडवोकेट इमरान खान पठान ने कहा कि प्रदेश सरकार कुम्भकर्ण की नींद में सोई हुईं है । प्रदेश का हर वर्ग चाहे किसान हो ,मजदुर हो, कर्मचारी हो ,व्यापारी  वर्ग या आम जनता इस समय सभी परेशान हे जिनकी पीड़ा को समझते हुए पुलिस कांस्टेबल ,अध्यापक, टीएसपी वर्ग के अभ्यर्थियों के समर्थन में बांसवाड़ा युवा कांग्रेस कमेटी द्वारा यह ज्ञापन दिया जाकर  मांग की गयी है कि  सारे वर्ग की समस्याओं को सरकार द्वारा तुरंत निराकरण किया जावे तथा पूर्व मुख्यमंत्री अशोक गेहलोत द्वारा किये गयी पुलिस वेतन वृद्धि को यथावत रखा जावे। उन्होंने कहा कि भाजपा सरकार के गलत प्रबंधन के कारण सरकार का खजाना खाली हो चुका है। राजस्थान के इतिहास में पहली बार राज्य कर्मचारियों की वार्षिक वेतनवृद्धियों को रोकने के आदेश जारी हुए है। उन्होंने मुख्यमंत्री से मांग की है कि वे इस तुगलकी आदेश को वापस लें अन्यथा युवा कांग्रेस इस दमनकारी निर्णय के खिलाफ आंदोलन करेगी।
इस दौरान यह रहे उपस्थित :-
 ज़िला प्रवक्ता एडवोकेट इमरान खान पठान,हरीश पंचाल,मनोहर खड़िया, बुरहान रतलामी, पार्षद श्रीमती देवबाला राठौड़,  अरविंद डामोर,कुलदीप पंड्या,तौसीफ नायक, एडवोकेट जिम्मी सवोत,तपन मेघावत, एडवोकेट अब्दुल वसीम,आसिफ मुस्तफा खान,मनोज डामोर,राकेश रावत,कोदरलाल बुनकर, एडवोकेट नारायणलाल, सुरेश यादव, आसिफ खान, वरिष्ठ कांग्रेसी गुलाम मोहम्मद खोखर,आईटी सेल से जितेंद्र परिहार,उर्विष पाठक,शोभितपाल सिंह, बलवंत वसीटा,शांतिलाल डामोर सहित कई युवा कांग्रेसी कार्यकर्तागण उपस्थित रहें ।

LEAVE A REPLY