सन्डे कविता

ज़िन्दगी -तेरे साथ तुझे पाने के जूनून में खुद को खो दिया है  तेरी सासों से मेरी सासें आखिर कब मिलेंगी. आधे लिखे ख़त भी भीग गए...

संडे “कविता”

"प्यार को बाँट लिया जाये यारो " आओ यारो इस प्यार को बाँट लिया जाए.... क्या पता मेरे हिस्से में भी कुछ आ जाए.... रात के कुछ...