• l_child-gang-1461737546उदयपुर में इन दिनों बच्चा गैंग सक्रिय है। इस गैंग की एक बालिका व बालक मंगलवार को पकड़ में आया जबकि एक फरार हो गया। इनके पास से दो बैग मिले जिसमें 70 तोला जेवर भरे थे।
  • उदयपुर.

    शोभागपुरा में सौ फीट रोड स्थित वृंदावन वाटिका में चल रहे वैवाहिक समारोह से  मंगलवार रात बच्चा गैंग में शामिल दो अपचारी बालिका दुल्हन की मां के पास रखे जेवरातों से भरे दो बैग ले भागी।

    बैग में दो दुल्हनों के लिए बनाए गए करीब 70 तोला सोने के जेवर रखे थे। हो-हल्ला मचते ही लोगों ने मौके पर दो अपचारी बालक व बालिका को पकड़ लिया, जबकि तीसरी बालिका 50 तोला जेवर से भरा बैग लेकर भाग गई।

  • पुलिस ने पकड़ में आए अपचारियों की मदद से फरार बालिका को पकडऩे के लिए देर रात तक उदियापोल व उसके आस-पास के डेरों में दबिश दी। हिरण मगरी सेक्टर-6 निवासी केशव बागड़ी की दो पुत्रियों रीना व माया का विवाह था।
  • बारात उदयपुर में ही पहाड़ा व प्रतापनगर से आई थी। समारोह में मेहमानों के आवागमन के बीच की खुशी का माहौल था। रात करीब 9 बजे भीड़ के बीच आठ साल की बालिकाएं अंदर घुस गईं। इधर-उधर घूमकर उन्होंने दुल्हनों की मां पुष्पा के पास मौजूद बैग का पता लगा लिया।
  • मौका ताड़कर दोनों बैग लेकर फरार हो गई। शोर मचा तो समारोह में शामिल लोग बाहर निकले और भागते हुए एक बालिका व बालक को पकड़ लिया। सूचना पर पुलिस पहुंची और दोनों को थाने ले गई। पुलिस को उनके पास से एक बैग मिला, जिसमें 20 तोला सोना था।

1 COMMENT

  1. उदयपुर वन विभाग की भर्ती प्रक्रिया में धांधली बाजी के मामले सामने आ रहे हैं जहां सरकार भ्रष्टाचार मिटाने का दावा कर रही है वहीं विभाग के आला अधिकारी द्वारा घूसखोरी कर लाखों नौजवान के भविष्य के साथ खिलवाड़ किया गया है ऐसे भ्रष्ट अधिकारियों तथा उसी वन विभाग में कार्यरत कर्मचारियों की सांठगांठ से अपने सगे-संबंधियों को ही चयनित किया जा रहा है और उभर रही प्रतिभाओं का दमन किया जा रहा हैl अभ्यर्थी राजकुमार मेनारिया नर्बदाशंकर मेनारिया निवासी चीरवा ना तो शारीरिक रूप से और ना ही मानसिक रूप से भर्ती के किसी मापदंड पर खरा उतरा है लेकिन पिता के उसी वन-विभाग में कार्यरत रहेंने और घूसखोरी कर 01 मई 2016, रविवार को प्रकाशीत रिजल्ट मे अभ्यर्थी का चुनाव करा दिया गया है l सरकार एवं उदयपुर के आलाकमान अधिकारीयों से अपील है कि इस भर्ती की निष्पक्ष जांच की जाए एवं अभ्यर्थी की शारीरिक/लिखित परीक्षा एवं अन्य सहायक रिपोर्टों का सार्वजनिक प्रस्तुतीकरण किया जाए तथा डॉक्टरी रिपोर्ट भी प्रस्तुत की जाए कि अभ्यर्थी इस पद के लिए शारीरिक रूप से सक्षम है lपिता और अभ्यर्थी को भ्रष्टाचार बढ़ाने के आरोप में कड़ी से कड़ी सजा़ दिलाई जाए तथा कर्मचारी और आरोपी अधीकारीयो को विभाग से निलंबित कर भविष्य काल के संपूर्ण हित पर पाबंदी लगा दी जाएl

LEAVE A REPLY