post news. बड़े पद पर पहुच जाने के बाद अक्सर लोग समाज के प्रति अपनी जिम्मेदारियों को भूल कर खुद मौज में लग जाते है. लेकिन कई अधिकारी ऐसे भी होते है जो समाज के प्रति अपनी जिम्मेदारियों को समझ कर समाज को कुछ देने का प्रयास करते रहते है. और उनके इस प्रयास में कई बार खुद का पैसा और अथाह मेहनत भी लगती है . ऐसे ही एक अधिकारी राजस्थान परिवहन विभाग के ARTO प्रकाश सिंह राठोड है जिन्होंने अपनी जेब के ३ लाख रूपये तक खर्च कर आम गरीब और जरूरत मंद अभ्यर्थियों के लिए प्रतियोगी परीक्षा की तय्यारी के लिए एक वेब साईट बनाई है .

विविध प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी करने वाले अभ्यर्थियों के लिए बनाई गई बेबसाइट काफी फायदेमंद साबित हो रही है। अब तक 27 हजार अभ्यर्थी इसके जरिए आईएएस, आरएएस, कानिस्टेबल व पटवारी आदि की तैयारी कर चुके हैं। युवा अभ्यर्थियों को घर बैठे ऑनलाइन तैयारी की सुविधा देने की मंशा से इस अधिकारी के करीब तीन लाख रुपए खर्च हो चुके हैं।

यह काम किया प्रादेशिक परिवहन कार्यालय में एआरटीओ प्रकाश सिंह राठौड़ ने। जिनके अनुसार उनके द्वारा बाड़मेर से प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी और फिर चयन के बाद वर्षों तक मन में यह बात आती रही कि किस तरह अपने अनुभव को युवा शक्ति के साथ साझा करें। ताकि प्रतिभा और मेहनतकश होने के बाद भी आर्थिक रूप से विवश दूरस्थ इलाकों के युवा को मदद मिल सके। ऐसे में www.wincompete.com वेबसाइट बना डाली। अब तक इसका 27 हजार से अधिक अभ्यर्थी उपयोग कर चुके हैं। तीन साल पहले बनाई वेबसाइट को इस साल तीन-चार बार अपडेट किया है। वेबसाइट का उपयोग करने के बाद अभ्यर्थी फीडबैक भी दे सकेंगे।

वेबसाइट www.wincompete.com की शुरुआत में आईएएस एवं आरएएस के लिए जरनल नॉलेज, हिस्ट्री तथा आईआईटी में कैमेस्ट्री के प्रश्नपत्र अपलोड किए थे। दूसरे चरण में पटवारी एवं कानिस्टेबल परीक्षा के प्रश्न पत्र अपलोड किए। अब आईआईटी में फिजीक्स, कानिस्टेबल में मेंटल एबिलिटी का पेपर अपलोड किया है। इस वेबसाइट की दो खास बात है। हर बार प्रश्न पत्र चेंज मिलेगा। अपनी रैंकिंग का पता भी चल सकेगा। वेबसाइट का उपयोग करने के लिए सीधे फेसबुक एवं गुगल पर लॉग इन करना होगा। वेबसाइट खुलते ही सिविल सर्विसेज या आईआईटी में से किसी पर टिक करना होगा। प्रश्न पत्र हल करने पर अपने रैंकिंग भी पता चलती रहेगी। अभ्यर्थी ने किस प्रश्न को हल करने के लिए क्या टिक किया, यह भी पता चलेगा।

LEAVE A REPLY