उदयपुर। अजमेर की एमडीएस यूनिवर्सिटी के कुलपति प्रोफेसर विजय श्रीमाली का द‍िल का दौरान पड़ने से शन‍िवार को न‍िधन हो गया।श्रीमाली उदयपुर कोमर्स कोलेज के डीन रह चुके है व् छात्रों में काफी लोकप्रिय भी रहे है। श्रीमाली 58 वर्ष के थे। वे लंबे समय से शुगर से पीड‍़़‍ि़‍त थे। श्रीमाली का न‍िध्‍ान फोर्टिस हॉस्पिटल में हुआ। उनके न‍िधन से श‍िक्षा जगत में शोक की लहर छा गई। प्रो. श्रीमाली की शव यात्रा रविवार प्रात: 9 बजे उनके निवास 376, हिरणमगरी सेक्टर 11 से अशोकधाम स्थित मोक्षधाम लाई जाएगी जहां उनका अंतिम संस्कार होगा। 
श्रीमाली को दो महीने पूर्व ही एमडीएस विश्वविद्यालय का कुलपति बनाया गया था। प्रो. विजय श्रीमाली उदयपुर यूआईटी चेयरमैन रविन्द्र श्रीमाली के भाई हैंं।
श्रीमाली 30 सालों से अध‍िक समय से मोहनलाल सुखाडि़या व‍िव‍ि से जुड़े रहे। वे कॉमर्स कॉलेज के डीन, स्‍पोट्र्स चेयरमैन आद‍ि पदों पर रहे। उनके पर‍िवार में पत्‍नी, पुत्र व पुत्री हैं।
एकेडमिक कैरियर
1986 में एमबी कॉॅलेज में असिस्टेंट प्रोफेसर व 2007 में प्रोफेसर बने।
15 वर्ष तक बॉम के सदस्य,
2 वर्ष तक बोर्ड ऑफ कंट्रोल में सदस्य।
2006 से 2009 तक विधि महाविद्यालय के डीन रहे।
2010 से 2012 तक विवि के चीफ प्रोक्टर।
सितम्बर 2012 से सितम्बर 2015 तक कॉमर्स कॉलेज के डीन।
व्यवसाय एवं प्रशासन विभागाध्यक्ष व एमएचआरएम के निदेशक, स्टेट ऑफिस के इंचार्ज, स्पोट्र्स बोर्ड के चेयरमैन रहे। छात्र जीवन में तीन वर्ष तक एक्जीक्यूटिव कमेटी के सदस्य रहे।
1979 से 82 तक विद्यार्थी परिषद विभाग संगठन मंत्री रह चुके हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here