.गिर्वा ब्लाॅक में दो नंदघरों का उद्घाटन एवं सराडा ब्लाॅक के 318 आंगनवाड़ी केन्द्र ‘ख़ुशी‘ में शामिल
.हिन्दुस्तान जिंक व राजस्थान सरकार 3089 आंगनवाड़ी केन्द्रों के शुद्दिकरण के लिए कटिबद्ध।
.उदयपुर में अब तक 1335 में से 1157 आंगनवाड़ी केन्द्र हो चुके हैं ‘ख़ुशी’ में शामिल
.उदयपुर में अब तक 20 नंदघरों का एवं देष में 100 से अधिक नंदघरों का निर्माण

उदयपुर । कार्यक्रम की मुख्य अतिथि माननीया महिला एवं बाल विकास मंत्री श्रीमती अनिता भदेल ने उदयपुर में रवाॅं गाॅंव में धावड़ीतलाई एवं रवाॅं नंदघरां का उद्घाटन करते हुए अपने उद्बोधन में कहा कि सबसे ज्यादा जरूरी एवं महत्वपूर्ण है इंसान को इंसान बनाना। उन्होंने बताया कि विगत 2-3 वर्षों में आंगनवाड़ी केन्द्रों में महत्वपूर्ण बदलाव आया है स्थानीय लोग तथा पेरेंटस आगंनवाडी केन्द्रों की मूलभूत सुविधाएं देखे और अपने नौनिहालों को षिक्षा के लिए ‘खुषी’ आंगनवाड़ी केन्द्र जरूर भेजे। आंगनवाड़ी केन्द्र में षिक्षा के साथ-साथ पौष्टिक आहार भी मिलता है जिससे बच्चे कुपोषण से मुक्त होंगे और स्वस्थ रहेंगे। ग्रामीण बच्चों के विकास के लिए सुविधाएं युक्त ‘ख़ुशी’ आंगनवाड़ी केन्द्र उपलब्ध कराने के लिए वेदान्ता-हिन्दुस्तान जिंक का बहुत-बहुत आभार व्यक्त किया। स्थानीय लोगों का आव्हान किया कि आंगनवाड़ी केन्द्रों की सुविधाओं का भरपूर लाभ उठाएं तथा माताएं अपने बच्चों के भविष्य को उज्जवल बनाने के लिए षिक्षा जरूर दिलाये। आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं को भी जोर देकर कहा कि आंगनवाड़ी कार्यकर्ता यषोदा बनकर बच्चों की बालकृष्ण की तरह देखभाल करें तथा सुनिष्चित करें कि बच्चें नियमित केन्द्र पर आये। उन्होंने बताया कि सरकार आंगनवाड़ी केन्द्रों को नंदघर में कनवर्ट करना चाहती हैं जिससे बच्चों को ज्यादा से ज्यादा सुविधाएं मिल सके।

इस अवसर पर माननीय ग्रामीण विधायक श्री फूल सिंह मीणा ने भी अपने विचार व्यक्त करते हुए कहा कि वेदान्ता-हिन्दुस्तान जिंक के बहुत-बहुत आभारी जिन्होंने गिर्वा पंचायत ग्रामीण क्षेत्र में सुविधाओं युक्त ‘ख़ुशी’ नंदघर आंगनवाड़ी केन्द्र उपलब्ध कराये हैं। इन सुविधाओं से निष्चित रूप से ग्रामीण क्षेत्रों में गरीब परिवारों के बच्चों का विकास होगा। आंगनवाड़ी केन्द्रों पर बच्चे प्रेरित होकर षिक्षा के लिए नंदघर केन्द्रों पर आएंगे और षिक्षत होकर आगे बढेंगे। उन्होंने बालिका षिक्षा पर जोर देते हुए बताया कि विद्यालयों में षिक्षा स्तर में पर्याप्त सुधार आया है। उन्होंने स्वयं ने भी बालिका षिक्षा को बढ़ावा देने के लिए 80 प्रतिषत से अधिक अंक प्राप्त करने वाली बालिकाओं को हवाई यात्रा के लिए प्रोत्साहित किया है।

हिन्दुस्तान जिंक की सी.एस.आर. हेड श्रीमती नीलिमा खेतान ने नंदघर योजना के बारे में विस्तार से जानकारी दी। लोकार्पण समारोह में जिला प्रमुख श्री शांति लाल मेघवाल, गिर्वा पंचायत समिति के प्रधान श्री तख्त सिंह शक्तावत तथा हिन्दुस्तान जिं़क मजदूर संघ के महामंत्री श्री लालू राम ने भी अपने विचार व्यक्त किये तथा हिन्दुस्तान जिं़क की पहल को अनुकरणीय बताया। इस अवसर पर सरंपच पार्वती मीणा, उपनिदेषक महिला एवं बाल विकास श्रीमती तरूण सुराणा, गिर्वा पंचायत समिति के विकास अधिकारी, सेवा मंदिर की मुख्य कार्यकारी अधिकारी श्रीमती प्रियंका, हिन्दुस्तान ज़िंक के सीएसआर अधिकारी, सेवा मंदिर के प्रतिनिधि आंगनवाड़ी कार्यकर्ता एवं स्थानीय जनसमुदाय के लोग उपस्थित रहे।

हिन्दुस्तान जिंक की ’ख़ुशी‘ परियोजना के तहत सराडा ब्लाॅक के 318 आंगनवाडी केन्द्रों को शामिल करने हेतु चावण्ड में कार्यक्रम आयोजित किया गया। इस अवसर पर माननीया महिला एवं बाल विकास मंत्री श्रीमती अनिता भदेल ने कहा कि सभी सराड़ा ब्लाॅक के आंगनवाड़ी केन्द्रों को ’ख़ुशी’ परियोजना से जुड़ने से यहां के ग्रामीण बच्चें लाभान्वित होंगे और इसी कार्यक्रम की वजह से आपसे मिलने का अवसर मिला है। हम आषा करते हैं कि गिर्वा ब्लाॅक की तरह सराड़ा ब्लाॅक में भी नंदघर योजना को क्रिन्यान्वित किया जाए। उदयपुर के सराडा ब्लाॅक के इन आंगनवाड़ी केन्द्रों को सुदृढ बनाने के लिये हिन्दुस्तान जिंक ने सेवा मंदिर को अनुबंधित किया है। इस अवसर पर जिला प्रमुख श्री शांति लाल मेघवाल, सलूम्बर के विधायक श्री अमृत लाल मीणा, सराड़ा पंचायत समिति के प्रधान श्री मोहन खराड़ी, सराड़ा के तहसीलदार एवं सराड़ा पंचायत समिति के विकास अधिकारी, हिन्दुस्तान जिंक एवं सेवा मंदिर के अधिकारी एवं स्थानीय लोग उपस्थित रहे।

????????????????????????????????????

ज्ञातव्य रहे कि गिरवा ब्लाॅक के धावड़ीतलाई एवं रवाॅं के नंदघरो में अब अन्य आंगनवाडी केन्द्रों की सुविधा के अलावा आधुनिक सुविधाएं जैसे मनोरंजक शिक्षा हेतु टीवी, पंखे, शुद्ध पेयजल के लिये आरओ, बिजली हेतु सौलर पैनल, खिलौने एवं शौचालय का निर्माण किया गया है।

इन दोनो नंदघरों में हिंदुस्तान जिंक लिमिटेड एवं राजस्थान सरकार द्वारा इन केंद्रों पर ’’ख़ुशी’’ बाल विकास परियोजना के तहत आंगनबाड़ी केंद्रों को बालसहज एवं सुविधाजनक बनाने के लिये आकर्षक चित्रकारी, सोलर सिस्टम, स्वच्छ पेयजल हेतु आर.ओ, बच्चों के लिये खिलौने आदि उपलब्ध करवाये गये।

उदयपुर में इन केन्द्रो के साथ ही अब तक 20 नंदघरों को निर्माण कराया जा चूका है एवं 100 नंदघरों का कार्य प्रगति पर है।

उल्लेखनिय है कि हिन्दुस्तान जिंक ने राजस्थान सरकार से उदयपुर, राजसमंद, चित्तौडगढ़, भीलवाडा एवं अजमेर जिलों की 3089 आंगनवाडियों के 6 वर्ष से कम की आयु के ग्रामीण बच्चों को आवष्यक सुविधाएं देने के लिए गोद लिया।

हिन्दुस्तान जिंक के हेड-काॅरपोरेट कम्यूनिकेषन एवं खुषी अभियान के फाउण्डर पवन कौषिक ने बताया कि ’’ख़ुशी’’ अभियान के माध्यम से ना सिर्फ हिन्दुस्तान जिंक ग्रामीण बच्चों के स्वास्थ्य षिक्षा व पोषाहार में परिवर्तन ला रहा है बल्कि वंचित बच्चों के प्रति संपूर्ण भारत में जागरूकता भी ला रहा है। वहीं वेदान्ता द्व

LEAVE A REPLY