उदयपुर। महिलाओं के स्वाभिमान और उनके हक़ के लिए काम करने वाली “मुट्ठी” संस्थान बाल दिवस के उपलक्ष में विभिन्न राजकीय विद्यालयों में बाल कलाकारों को निखारने और प्रोत्साहित करने का प्रयास कर रही है। मुट्ठी संस्थान ने बच्चों के साथ तीन दिवसीय “बाल कलाकार” प्रतियोगिताएं आयोजित की।
मुट्ठी संस्थान की संस्थापक अर्चना शक्तावत और सरोज पटेल ने बताया कि राजकीय स्कूलों में पढने वाले बच्चों में कई प्रतिभाएं छुपी हुई रहती है, बस उन्हें आगे आने के अवसर अक्सर कम मिलते है। बच्चों का मनोबल बढाने के लिए मुट्ठी संस्थान ने बाल दिवस पर तीन दिवसीय कार्यक्रम “बालकलाकार” अलग अलग राजकीय स्कूलों में आयोजित कर रहा है। यह प्रतियोगिताएं १३ से १५ नवम्बर तक यह विभिन्न स्कूलों में आयोजित किया जारहा है। बाल कलाकार कार्यक्रम के तहत बच्चों में दो प्रतियोगिताएं “वाद विवाद” एवं “पोस्टरमेकिंग” रखी गयी है।
संस्थान की संस्थापक अर्चना शक्तावत ने बताया कि आज बाल दिवस पर भूपालपूरा राजकीय बालिका उच्च माध्यमिक विद्यालय में दोनों प्रतियोगिता आयोजित की गयी जिसमे छात्राओं ने बढचढ कर हिस्सा लिया। वाद विवाद प्रतियोगिता मे बच्चों ने कन्या भ्रूण हत्या,बढ़ते हुए प्रदूषण और स्वच्छ भारत आदि कई विषयों पर अपना पक्ष रखा। वही पोस्टर मेकिंग प्रतियोगिता में दिल को छू लेने वाले विषयो को अपनी कलाकारी से रंग भर कर उनको और खूबसूरत बनाया। प्रतियोगिता के बाद प्रथम, द्वितीय, त्रतिय आने वाली छात्राओं को पुरुस्कृत किया साथ ही प्रतियोगिता में भाग लेने वाली हर छात्रा को सांत्वना पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

मुट्ठी संस्थान की संस्थापक सरोज पटेल ने बताया कि 13 नवम्बर से शुरू किये गए इस प्रतियोगिता का मुख्य उद्देश्य राजकीय विद्यालय के बच्चों को प्रोत्साहित करना था। 13 नवम्बर को कविता राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय में प्रतियोगिता आयोजित की थी जिसमे काफी बच्चों ने भाग लिया 15 नवम्बर को हैप्पी होम प्रतापनगर में प्रतियोगिता का आयोजन किया जाएगा।

LEAVE A REPLY