उदयपुर। हनुमान जी की जमीन बचाने के लिए दो दिनों से भुख हड़ताल पर बैठे दो पहलवानों की हालत अब बिगड़ने लगी है। एक पहलवान के तो ड्रिप तक चड़ रही है, लेकिन प्रशासन की ओर से एक भी जिम्मेदार ने अभी तक वार्ता के लिए अपना कदम आगे नहीं बढ़ाया। शहर विधायक और गृहसेमंत्री भी दिनभर उदयपुर में रहे लेकिन मंदिर की जमीन के लिए लड़ रहे पहलवानों के हालात की जानकारी लेना भी उन्होंने उचित नहीं समझा।
हरिदास जी की मगरी में चुतुर्भज हनुमान जी की जमीन पर युआईटी ने बिजली विभाग को करंट भवन बनाने की अनुमति दे दी है। इससे क्षेत्र की जनता और पहलवान काफी आहत है। यही कारण रहा है कि अपनी मांगे मनवाने के लिए दो पहलवान इसी जमीन पर भुख हड़ताल पर बैठ गए है, जिनके समर्थन में अब शहरवासी भी जुड़ते जा रहे है। शनिवार को 52 घण्टे बात एक पहलवान की हालात काफी खराब हो गई, इसलिए उसे ड्रिप चढ़वानी पड़ी। वैसे खुफिया विभाग और पुलिस प्रशासन की तो पूरी नजर इन पहलवानों और इनके समर्थकों पर है, लेकिन अभी तक युआईटी या बिजली विभाग के जिम्मेदारों का यहां पर नहीं आना दर्शाता हैकि उनकी मंशा क्या है। वहीं शनिवार शाम को एकलिंग सेना सहित समस्त हिन्दू संगठनों की ओर से सुंदरकाण्ड का पाठ अनषन स्थल से किया गया।

LEAVE A REPLY