उदयपुर पोस्ट .राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की 150 वीं जयंती समारोह के अन्तर्गत प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी शनिवार को ‘स्वच्छता ही सेवा’ पखवाड़े की शुरुआत करते हुए ख्वाजा साहब की दरगाह की दरगाह की खादिमों की संस्था अंजुमन सैयद जादगान के अध्यक्ष सैयद मोइन हुसैन चिश्ती व अंजुमन शेख जादगान के अध्यक्ष अब्दुल जरार चिश्ती से संवाद किया। प्रधानमंत्री ने कहा कि स्वच्छता के क्षेत्र में अजमेर दरगाह का बड़ा योगदान है।
हमसे सीधी बात करने वाले पहले पीएम 
मोइन हुसैन चिश्ती ने अपना परिचय देते हुए कहा कि वजीरे आजम आपकी आवाज सीधे ख्वाजा साहब तक पहुंच रही है । आपकी हारिजी सीधे ख्वाजा साहब की दरगाह में हो रही है। चिश्ती ने कहा कि आप देश के पहले प्रधानमंत्री हैं जो वीडियो कॉफ्रेसिंग के जरिए आवाम से गुफ्तगू कर रहे है। लोग खुश है हमे गर्व है हमसे सीधी बात हो रही है। ख्वाजा साहब का भारत महान और स्वच्छ हो। अब तक हमने यह सुना था कि दरगाह के विकास लिए इतनी राशि आई लेकिन यह राशि कहां गई पता नहीं। लेकिन आपकी ट्रांसपरेंसी के कारण अभी हाल ही केन्द्रीय अल्पसंख्यक मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी की अध्यता में दरगाह व आसपास के विकास तथा स्वच्छता के लिए 62 करोड़ रुपए की राशि मंजूर हुई तथा एमओयू पर हस्ताक्षर किए गए। हमारे प्रशासन के अधिकारी स्वच्छता को लेकर लोगों को जागरूक कर रहे हैं। नगर निगम का वाहन सुबह स्वच्छता संदेश फैलाते हुए घर-घर कचरा लेने आता है।
प्रतिदिन 30 हजार लोग आते हैं जियारत करने
ख्वाजा साहब की दरगाह में प्रतिदिन 30 हजार लोग दरगाह जियारत के लिए आते हैं। दरगाह पर चढ़ाए च जाने वाले फूल ब्रह्मा की नगरी पुष्कर से आते हैं। दरगाह के फूलों की कम्पोस्ट खाद बनाई जा रही है। यह पाउच में भर कर जायरीन को उपलब्ध करवाई जा रही है। इससे फूलों का सही इस्तेमाल हो पाएगा और श्रद्धालुओं को स्वच्छता का मैसेज भी जाएगा। इस योजना को बढ़ावा दिया जाए। इससे पर्यावरण को फायदा होगा। स्वच्छता बढ़ेगी और बीमारी दूर होगी। ख्वाजा का भारत महान और स्वच्छ बने। एक घर के दो गमलों में भी यह खाद डाली जाएगी तो हमारा देश दुनिया फूलों का गुलदस्ता है। जिसमें सभी तरह के जाति धर्म रूप फूल पत्तियां अपनी सुगंध फैला रहे हैं। सभी मिल कर रह रहे हैं। सबका साथ और सबका विकास के साथ और भारत स्वच्छ और स्वस्थ रहे।
जर्रार चिश्ती ने कहा कि भारत विश्व का गुलदस्ता
जरार चिश्ती ने प्रधानमंत्री को स्मार्ट सिटी और एसआईपी के तहत अजमेर को चयनित करने के लिए धन्यवाद दिया। एसआईपी के लिए 62 करोड़ रुपए स्वीकृत किए गए है। इससे दरगाह स्वच्छ रहेगी। यह मील का पत्थर साबित होगा। हम स्वच्छता के लिए तत्पर है। दरगाह के फूलों की खाद बनाकर जायरीन को दी जाएगी। इससे बेअदबी रुकेगी पीएम का नारा सबका साथ सबका विकास के साथ पीएम सभी जाति धर्म के लोगों को साथ लेकर चलें। विश्व में इतने लोग साथ नहीं रहते। चिश्ती ने बताया कि उन्होनें पीएम को अजमेर व दरगाह आने के आमंत्रित भी किया। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ऐसे पहले प्रधानमंत्री है जो आवाम से सीधा संवाद कर रहे हैं। मुझे खशी और गर्व है। आमने सामने बात हुई। पीएम से सॉलिड वेस्ट पर चर्चा हुई।
दो वीसी रूम बनाए
दरगाह परिसर में वीसी के लिए एनआईसी ने व्यवस्थाएं की। दरगाह के महफिल खाने की छत पर इसके लिए 2 वीसी रूम बनाए गए। एक मुख्य वीसी रूम है तथा दूसरा स्टैंडबाई पर रखा गया गया। इसके लिए बीएसएनएन तथा एक निजी दूरसंचार कम्पनीकी लीज लाइन डाली गई। ऑडियो वीडियो कैमरे भी लगाए गए हैं। राष्ट्रीय सूचना विज्ञान केन्द्र के अजमेर के जिला सूचना विज्ञान अधिकारी अंकुर गोयल को इसके लिए नोडल ऑफिसर बनाया गया था। जिला कलक्टर आरती डोगरा तथा दरगाह नाजिम आई.बी.पीरजादा वीसी के दौरान मौजूद थे।

LEAVE A REPLY