आमिरखान खान की आने वाली बहुचर्चित फिल्म  ठग्स ऑफ़ हिन्दुस्तान के लिए फिल्म समीक्षक इदरिस खत्री का पूर्वाकलन उन्ही की कलम से :

दोस्तो आमिर खान की फ़िल्म हो और चर्चा न हो और यहां तो आमिर मिस्टर परफेक्शनिस्ट के साथ महानायक अमिताभ बच्चन जी भी है . तो दोस्तो ने फोन पर कहा कुछ इस पर भी लिखा जाए और  दोस्तो के इसरार पर मना नहीं कर पाया.

तो आइये हम बात करते है फिल्म ठग्स ऑफ़ हिन्दोस्तान पर बात करते है
जब हिन्दोस्तान पर अंग्रेजी हुकूमत थी तब अंग्रेजो ने एक ठग बैरम को पकड़ा था उस ठग ने अपने अपराध की स्विकारोत्ति (कंफेशन) की थी तब उस कन्फेशन के आधार पर एक नावेल लिखा गया था 1839 में फिलिप मेडौ टेलर द्वारा “कन्फेशन ऑफ ए ठग” और अब उसी नोवेल पर आधारित है फ़िल्म ठग्स ऑफ़ हिन्दोस्तान बन रही है जो दीपावली तक रिलीज़ होगी .
आमिर खान बैरम ठगों के सरदार का किरदार निभा रहे है जिसने कई अंग्रेजों के क़त्ल किये उसमे से उसे 931 तो याद थे . बाकी का हिसाब उसको नहीं पता था . उसके खास सहयोगी सय्यद आमिर अली ने भी इतने ही कत्लों में हिस्सा लिया और बैरम से ज्यादा कत्ल किये यह किरदार है अमित जी के पास .
फ़िल्म की कास्ट इतनी खूबसूरत है कि आमिर ने ट्वीट/फोन के ज़रिए आदित्य चोपड़ा निर्माता को शुक्रिया बोला और कहा कि अमित जी के साथ काम करने का सपना पूरा कर दिया. इस फिल्म में लेखन ओर निर्देशन सम्भाला है विजय कृष्ना आचार्य ने .
यह बात किसी से छुपी नहीं है कि आमिर अपने काम औऱ किरदार को लेकर इतने संजीदा होते है कि
चाहे गजनी के सिक्स पैक, 3 इडियट्स का इडियट, नोजवान, बच्चा, या दंगल का पिता हो वेसे ही खुद को ढाल लेते है
इस फ़िल्म में पंजाबी किरदार के लिए उन्होंने कानो को छिदवाया (पियरसिंग) करवॉई, दाड़ी, बाल बढ़ाए पूरा गेट आप वैसा ही दिया है . अमित जी से कुछ भी करवा लीजिये वह हरफनमौला है . जब यह दो महान हस्तियां फ़िल्म में हो तो दूसरे सभी गौण हो जाते है लेकिन कैटरीना, फातिमा सना शेख, ज़ीशान अय्यूबी, रोनित रॉय भी है फ़िल्म में.
फ़िल्म का संगीत दिया है शंकर एहसान लॉय ने,  फ़िल्म का बजट है 160 करोड़ .
आमिर ने मुनाफे में 70%लेने का करार किया है और निर्माता 30% पर भी राज़ी  हो गए है क्योंकि दंगल 2000 करोड़  पार किये है, वही सीक्रेट सुपर स्टार ने चायना में 300 करोड़  का व्यापार किया है. इस फ़िल्म से भी उम्मीद की जा रही है कि विश्व भर से 1000 करोड़  पार कलेक्शन कर सकती है .
अब कुछ चर्चा पीटर के नावेल पर भी करते है जिस पर फिल्म बनाई जा रही है .

विडियो भी देखिये

 

नोवेल के अनुसार ठग सफर में जा रहे करवा में शामिल हो जाते थे, ओर खाने में नशीली चीजे डालकर काफिला लूट लिया करते थे, ठग एक दूसरे को पहचान लिया करते थे, ठग बिरादरी माँ काली मो अपनी कूल देवी मान कर उनकी पूजा करते थे . ठग बाद बाद में अंग्रेजो को मारकर लूटपाट करने लगे थे, अंग्रेजो ने उन्हें पकड़ने के लिए एक खास सेना का गठन किया था बाद में यही ठग देश की आज़ादी की लड़ाई में अंग्रेजो के खिलाफ हो गए थे और अंग्रेजो की नाक में दम कर दिया था .
बैरम सरदार ने जो कत्ल किये उसमे से 931 कत्ल तो याद थे उसे उस वक्त में ठगों की बिरादरी ने 30 लाख से ज्यादा कत्लों को अंजाम दिया इसी वजह से उनका नाम ग्रीनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकार्ड में दर्ज है|
दोस्तो ट्रेलर से फ़िल्म की भव्यता साफ दिख रही है
भव्यता का अंदाज़ा अमित जी/आमिर से लगाया जा सकता है
कूल मिलाकर इस साल बेहतरीन फ़िल्म की सौगात होगी
ठग्स ऑफ हिन्दोस्तान के रूप में

आकलन

फिल्म समीक्षक – इदरीस खत्री

इदरीस खत्री
(फ़िल्म समीक्षक)

LEAVE A REPLY