उदयपुर .  झीलों की नगरी में शनिवार की सुबह तेज बारिश से शुरू हुई और दिनभर बारिश का दौर जारी रहा। सावन की इस बारिश से जलाशयों में पानी की आवक शुरू हो गई है। नांदेश्वर चैनल के 9 इंच बहने से इसका पानी सीसारमा नदी होते हुए पीछोला में आ रहा है। लगातार बारिश से लेकसिटी में मौसम सुहावना हो गया है। मौसम विभाग ने आगामी 48 घंटों में जिले में तेज बारिश की संभावना जताई है। घने काले बादलों के बीच लेकसिटी में हो रही बारिश से ‘मानसून पैलेस’ भी बादलों की आगोश में दिखाई दिया। पीछोला में हल्की आवक हुई है। फ़तहसागर का जलस्तर 5 फ़ीट 4 इंच व पीछोला का जलस्तर 5 फ़ीट 8 इंच बना हुआ है। पूर्ण भराव क्षमता 13 फ़ीट से फ़तहसागर आठ व पीछोला पूर्ण भराव क्षमता 11 फ़ीट से 5 फ़ीट खाली है। झाडोल तालाब ओवरफ्लो होकर इस पर 6 इंच की चादर चल रही है। बारिश से देहलीगेट, गुलाबबाग रोड, दुर्गा नर्सरी रोड, आयड पुलिया, सूरजपोल, बापूबाजार पर सडकों पर पानी जमा हो गया जिससे कई वाहन बंद पड गए। प्रात: 8 बजे समाप्त हुए बीते 24 घंटों में जिले के कोटडा में करीब साढे तीन इंच (84 मिमी ) बारिश रिकॉर्ड की गई। उदयपुर शहर में डेढ इंच वर्षा रिकॉर्ड की गई। सई डेम 36 मिमी, सलूम्बर- 18, स्वरूपसागर- 40, उदयसागर 49, वल्लभनगर 37, बागोलिया 32, डाया42, जयसमंद 43, गोगुन्दा 21, ओगणा- 36, केजड 18, देवास 32, सोम पिकअप 16, सोम कागदर 10, झाडोल 20, मदार- 20, नाई- 16 व बावलवाडा में 12 मिमी वर्षा रिकॉर्ड की गर्ई।

झाड़ोल तहसील में 6 इंच एवं देवास के अलसीगढ़ में 5 इंच बारिश हुई। पहाड़ों में अच्छी बारिश के बाद जिले में कई जगह झरनों से कल-कल कर जलधारा फूट पड़ी।

जिले में झाड़ोल तहसील व देवास के अलसीगढ़ में गुरुवार देर रात से शुक्रवार सुबह तक जमकर पानी बरसा जिससे क्षेत्र के नदी-नालों में पानी की आवक शुरू हो गई। देवास प्रथम के अलसीगढ़ व आड़ गांव की पहाडि़यों में तेज बरसात होने से नांदेश्वर चैनल में पानी की आवक बढ़ गई। 27 फीट भराव क्षमता वाले नांदेश्वर चैनल से पानी बह कर सीसारमा नदी की ओर चल पड़ा। जिले के सोम कागदर, सेमारी व बावलवाड़ा में 4-4 इंच व ऋषभदेव, ओगणा, केजड़ व जयसमंद में 3-3 इंच बरसात दर्ज की गई।

 

यहां भी बरसा पानी

जिले के कानोड़, बम्बोरा, भटेवर, खेरोदा, भींडर, मेनार, सराड़ा, सलूम्बर व जावर माइंस क्षेत्र में बरसात हुई। कभी तेज तो कभी धीमी बरसात का दौर चला।

नदियों में आवक

शहर की सीसारमा, जावरमाइंस की टीडी नदी, लूणदा की गोमती नदी व सलूम्बर की सरणी नदी में पानी बहने से लोगों में खुशी की लहर छा गई। कई ग्रामीण नदी के तट पर जाकर पानी के बहाव का नजारा देखते रहे।

खेतों में भरा पानी

गुरुवार देर रात से शुक्रवार दिन भर बरसात होने से कई स्थानों पर खेत तलाई बन गए। छोटे-मोटे एनिकट भी छलक गए। इधर, एक पखवाड़े से मौसम शुष्क रहने से चिंतित किसानों ने बारिश होने से राहत महसूस की है।

शहर में बारिश

शहर में कुछ स्थानों पर सुबह हल्की बारिश हुई। दोपहर के बाद बरसात का जोर रहा। पूरे शहर में करीब आधा घंटा तक तेज बरसात हुई। बाद में रुक-रुक कर श्रावणी बौछारें गिरी। मानसून के दूसरे चरण में शहर में पहली बार अच्छी बरसात होने से शहरवासी प्रफुल्लित हो उठे। नांदेश्वर चैनल पर पानी देखने के लिए भी शहर के लोग पहुंचे।

कई स्थानों पर भरा पानी

शहर में आधा घंटा के करीब बरसात होने से जयश्री कॉलोनी, बोहरा गणेशजी, उदियापोल, सिटी स्टेशन रोड, सूरजपोल, बापूबाजार, देहली गेट व नाड़ाखाड़ा क्षेत्र सहित कुछ स्थानों पर नालियां व नाले अवरुद्ध होने से सड़कों एवं बस्ती में पानी भर गया। इस दौरान पानी में गुजरने से कई दुपहिया वाहन बंद हो गए।

LEAVE A REPLY