उदयपुर . एशिया के दुसरे सबसे बड़े गार्डन गुलाब बाग़ की एतिहासिक कमल तलाई को नगर निगम द्वारा एक होटल मालिक को फायदा पहुचाने के लिए पक्का करवाना के विरोध में कांग्रेसियों ने अतिरिक्त जिला कलक्टर को ज्ञापन दिया। कांग्रेसियों ने नगर निगम पर गुलाब बाग़ के कई हिस्सों को खुर्द बुर्द करने का आरोप लगाते हुए कहा कि सिर्फ किसी रसूखदार के निजी फायदे के लिए नगर निगम द्वारा एसा कृत्य किया जारहा है ।
शहर का गुलाब बाग़ गार्डन एशिया के दुसरा सबसे बड़ा गार्डन माना जाता है। गुलाब बाग़ अपनी एतिहासिक महत्त्व भी रखता है । गार्डन में मोजूद कमल तलाई अपने आप में मेवाड़ के जल संग्रहण सिस्टम की इंजीनियरिग का एक जीता जागता नमूना था जो कि पिछोला के भरने पर कमल तलाई भर जाती और यहाँ के फव्वारे अपने आप से तेज गति से चलते थे । सार्वजनिक निर्माण विभाग के अंतर्गत आने वाले इस बाग़ का रख रखाव नगर निगम द्वारा किया जाता है । पिचले काफी समय से कमल तलाई में निर्माण कार्य चल रहा है लेकिन आज कांग्रेस नेता दिनेश श्रीमाली के साथ कई कार्ग्रेसी कलेक्ट्रेट पहुचे और उन्होंने नगर निगम पर आरोप लगाते हुए निर्माण कार्य रोकने की मांग की । दिनेश श्रीमाली का कहना है कि इस बाग के काफी हिस्सों को निजी संस्थाओं को दे दिया गया है और अब इस सार्वजनिक गार्डन में कई जगह फाटके लगाकर ताले भी लगाए जा चुके है। शहर की जनता के स्वस्थ्य मनोरंजन के लिए बचे एक मात्र इस गार्डन की सुरक्षा भी अब खतरें में है। वहीं इन दिनों प्राकृतिक धरोहर को खुर्दबुर्द करने की भी पूरी कोशिश की जा रही है। जो सबके सामने हो रहा है लेकिन कोई कुछ भी करने में असमर्थ है।

 

दिनेश श्रीमाली ने कहा कि गुलाबबाग की सबसे सुन्दर कमल तलाई की। जो कभी कमल के फूलों से गुलजार रहती थी और इसके पानी से पूरे गुलाबबाग में साल भर हरियाली रहती थी। राजा महाराजाओं के काल में रहे तकनीकी विषेशज्ञों ने इस तलाई का निर्माण ही कुछ इस तरह से किया था कि पिछोला का पानी समोरबाग होते हुए होले – होले इस कमल तलाई को भरता रहे और यहां से अंदर ही अंदर बने एक सिस्टम के तहत गुलाबबाग की भी भरपाई होती रहे। लेकिन पिछले कुछ समय से तकनीकी कारण बताकर जनता को गुमराह करते हुए निगम की ओर से इसे पक्का करवाया जा रहा है और इसे पक्का भी इस हिसाब से करवाया जा रहा है कि जिम्मेदारों की ओर से नाले पर बनी एक होटल कृष्णलीला को फायदा पंहुचाया जा सके। क्योंकि कमल तलाई से जो पानी रिसता हुआ पूरे गुलाबबाग में जाता है वह इस होटल के बेसमेंट को भी भर देता है। दिनेश श्रीमाली के साथ पूर्व विधायक त्रिलोक पुरबिया शहर जिलाध्यक्ष गोपाल शर्मा सहित कई कांग्रेसी जिला कलेक्ट्री पहुचे और अतिरिक्त जिला कलेक्टर को प्राकृतिक धरोहर को बचाने और इसको खुर्दबुर्द कर अमलीजामा पहनाने वाले जिम्मेदारों पर कार्रवाई की मांग की है। साथ ही यह आरोप भी लगाया है कि हाल ही गुलाबबाग की दीवार को छोटा करके जिस तरह से कालाजी गोराजी को चोड़ा किया गया है पहले यह माना जा रहा था कि यातयात को सुचारू करने के लिए ऐसा किया गया है लेकिन अब तो इस होटल द्वारा की जा रही है पार्किंग से तो यही लगता है कि सिर्फ इसे ही फायदा पंहुचाने के लिए गुलाबबाग की दीवार को तोड़कर उसे छोटा किया गया था।

LEAVE A REPLY