Udaipur. सायरा थाना क्षेत्र के पहाड़ियों के बीच स्थित तला गांव के मोटीबोर फला में शनिवार दोपहर नींद में सोए दो छोटे बच्चे अपने ही घर में जिंदा जल गए। माता-पिता बाहर गए हुए थे।

थानाधिकारी यशवंत सोलंकी ने बताया कि हीरा राम पुत्र अणदा राम गरासिया और उसकी पत्नी ने दोपहर को खाना बनाया था। इसके बाद पत्नी चारा लेने चली गई और पति बकरी चराने के लिए पहाड़ों में चला गया, लेकिन साढ़े तीन साल का बच्चा शंभू और डेढ़ साल की बच्ची कविता घर पर ही थी।

हीरा और उसकी पत्नी करीब पौन घंटे बाद घर लौटे तो आस-पास के लोग इकट्ठा थे और धुआं निकल रहा था। लोगों ने इसकी सूचना पुलिस को दी। पुलिस पहुंची तब तक सब खाक हो चुका था। पुलिस ने शव निकाले और पोस्टमार्टम कराया।

बताया जाता है कि पहाड़ी पर अकेला घर हीरा का ही बना हुआ था। छत पर तिरपाल डाल रखा था और दीवार के रूप में लकड़ियों से बांध रखा था। घर के बाहर चूल्हा लगा हुआ था। चूल्हे पर दाल बाटी बनाई और माता-पिता घर से निकले। संभावना जताई जा रही है कि चूल्हा पूरी तरह से बुझा नहीं था। चूल्हे के अंगारों से घर पर रखी घास ने आग पकड़ ली। इस कारण अंदर सोए दोनों भाई-बहन जिंदा जल गई।

LEAVE A REPLY