DSC_0131उदयपुर, मोहनलाल सुखाड़िया विश्वविद्यालय के तत्वावधान और पेसिफिक युनिवर्सिटी के प्रायोजकत्व में चल रहे सार्क देशों के विश्वविद्यालयों के फेस्टिवल के तीसरे दिन सोमवार को विविध साहित्यिक व सांस्कृतिक कार्यक्रमों की धूम रही। सोफस्ट के रंग सभी के सिर पर चढ़ कर बोल रहा हैं। दक्षिण एशियाई देशों के विश्वविद्यालयों के पांच दिवसीय सॉफेस्ट का तीसरा दिन फैशन शो के नाम रहा। इसमें प्रतिभागियों ने अपने अपने देषों के पारम्परिक परिधानों और संस्कृतियों को रैम्प पर प्रदर्षित करके दर्षकों का मन मोह लिया।
DSC_0037 सोमवार की ष्शुरुआत सुबह 10 बजे फेस पेटिंग प्रतियोगिता पेसिफिक युनिवर्सिटी में आयोजित की गयी, इसमें भारतीय विश्वविद्यालयों के साथ ही सार्क देशों के विश्वविद्यालयों के विद्यार्थियों ने अपने अपने चेहरों पर विभिन्न थीम के तहत शानदार पेटिंग्स बनायी। किसी ने चेहरे पर क्रिकेट वर्ल्ड कप के रंग उकेरेे तो किसी के चेहरे पर प्रकृति की खुबसूरती फैली हुई थी। कुछ विद्यार्थियों ने पर्यावरण की रक्षा का संदेश भी फेस पेटिंग के माध्यम से दिया। फेस पेटिंग प्रतियोगिता के संयोजक भावना कावड़िया थे, निर्णाय मंयक शर्मा और मनोहर लाल जाट थे तथा विशिष्ट अतिथि डॉ जय कालिया और डॉ. टी. पी आमेटा थे। पेसिफिक विश्वविद्यालय के विश्वेश्वरैया हॉल में इंटरनेशनल सिम्पोजियम का आयोजन किया गया। रोल ऑफ इन्टरप्रिन्योरशिप एंड स्कील डवलपमेंट अमंग यूथ ऑफ साउथ एशिया विषय पर हुए इस सेमीनार में भारत के साथ भूटान, बांगलादेश और अफगानिस्तान के विद्यार्थियों ने भाग लिया। प्रो करुणेष सक्सेना के संयोजन में आयोजित इस सेमीनार में आईआई एम कोझिकोड के फाउंडर डायारेक्टर विनयषील गौतम, ईएससीएस के सीईओ एन के महापात्रा, फ्यूजन आउटसोर्सिंग के एमडी दिनकर दुबे, जेके सीमेन्ट से आर पी सिंह तथा तेजपुर केेन्द्रीय विश्वविद्यालय के डा बाला ने विषय पर विस्तार से प्रकाश डाला। सेमीनार में भाग लेने वाले विद्यार्थियों ने कहा कि दक्षिणी एशियाई देशों में युवाओं के लिए काफी अवसर है और इन देशों में रोजगार के लिए नये नये क्षेत्र खुलते जा रहे है साथ इंटरनेट की बढ़ती लोकप्रियता से युवाओं को प्रोत्साहन मिला है। इस दौरान प्रतिभागियों को प्ररेणादायी विडियो फिल्म भी दिखाई गयी। यहां पर दिन में भाषण कला प्रतियोगिता आयोजित की गयी, जिसका विषय “मेरी आकांक्षाएँ” था । प्रतियोगिता में भारत, बांगलादेश और भूटान के आधा दर्जन से ज्यादा विद्यार्थियांें ने अपने विचार व्यक्त किये। प्रतिभागियों में से ज्यादातर विद्यार्थियों ने एकता और भाईचारे को और मजबूत बनाने पर जोर दिया साथ ही मिलजुल कर साथ आगे बढने की सार्थकता भी तर्कों से साबित की। कार्यक्रम के निर्णायक डॉ. शारदा भट्ट और डॉ. अपर्ना थे व संयोजक निधि नलवाया और डॉ. सुभाष शर्मा थे। दोपहर में पेसिफिक यूनिवर्सिटी के पीएचडी विभाग के सेमीनार हॉल में विरासत एवं संस्कृति विषय पर प्रश्नोत्तरी प्रतियोगिता आयोजित हुई। प्रतियोगिता में विभिन्न देशों की छह टीमों के प्रतिभागियों से विरासत, परम्पराओं, संस्कृति, लोक-कलाओं, जनजीवन पर तीन राउण्ड में प्रश्न पूछे गये। प्रतियोगिता के निर्णायक मीना गौड़ और डॉ. प्रतिभा थे।
शाम को आयोजित एकाभिनय में जहां बांगलादेष के प्रतिभागियों ने बेहतरीन प्रस्तुति दी वहीं एकल लोकगीत में बांगलादेष, भूटान, श्रीलंका तथा भारत के विश्वविद्यालयों ने अपने लोकगीतों से दर्षको को झूमने पर मजबूर कर दिया। इधर मिमिक्री प्रतियोगिता में प्रतिभागियों ने समसामयिक मुद्दों पर व्यंग्य और हास्य के जरिए गुदगुदाया।
डा कृति जैन व डा प्रगति के संयोजन में आयोजित फैशन शो में 27 प्रतिभागियों ने अपने अपने देषों के पारम्परिक परिधानों और संस्कृतियों को प्रदर्षित करके समां बांध दिया।
मंगलवार को सभी प्रतिभागी झीलांे की नगरी के विभिन्न पर्यटक स्थलांे का अवलोकन करेंगे, दोपहर का भोजन दूधतलाई स्थित दीनदयाल उद्यान में लेने के बाद शाम को हल्दीघाटी जाएंगे और उसके बाद श्रीनाथ जी के दर्षन करेंगे। शाम को नाथद्वारा में ही प्रतिभागियों के लिए लोकसंगीत संध्या का आयोजन होगा।

LEAVE A REPLY