3b112654-987a-4ba4-a36a-b7091f54747dउदयपुर। नाथद्वारा नगर पालिका आयुक्त को एसीबी ने आज १५००० की रिश्वत लेते हुए रंगे हाथों गिरफ्तार किया। आयुक्त अपने ऑफिस में ही प्लॉटों की लीज जमा करवाने को लेकर कमीशन के रूप में ६० हज़ार रुपये की मांग कर रही थी। पीड़ित प्लाट मालिक ने भीलवाड़ा एसीबी में शिकायत की, शिकायत सत्यापित होने के बाद टीम ने आज कार्रवाई को अंजाम दिया, आयुक्त के खिलाफ तीन मामले पहले भी एसीबी में चल रहे है।
जानकारी के अनुसार आज सुबह भीलवाड़ा की एसीबी टीम ने नाथद्वारा नगरपालिका आयुक्त तनुजा सोलंकी को १५००० की रिश्वत लेते हुए रंगे हाथों गिरफ्तार किया। एसीबी उपाधीक्षक राजेश गुप्ता के अनुसार हरीश सोनी के तीन प्लाट सुखाड़िया नगर में स्थित है। प्लाट की लीज छह लाख रुपये बकाया थी। हरीश सोनी ने पिछले दिनों नगर पालिका द्वारा एक मुश्त लीज जमा कराने में दीगयी छूट की स्कीम के तहत एक १८०००० रुपये का चेक नगर पालिका में जमा करवाया था, लेकिन आयुक्त तनुजा सोलंकी चेक स्वीकार नहीं कर रही थी और फ़ाइल गुम होने के बहाने बना कर चक्कर कटवा रही थी। बाद में आयुक्त तनुजा सोलंकी ने हरीश सोलंकी को कहा की तुम्हारी छह लाख रुपया लीज बनती है और उसके दस प्रतिशत के हिसाब से ६०००० रुपया मुझे चाहिए। पीड़ित हरीश सोलंकी ने यह शिकायत भीलवाड़ा एसीबी में की जिसके बाद आयुक्त द्वारा रिश्वत मांगे जाने का सत्यापन किया गया । ६०००० की पहली किश्त के रूप में १५००० रुपये आज नगर पालिका स्थित आयुक्त के ऑफिस में देना ही तय हुआ ।  हरीश सोलंकी ने ऑफिस जाकर रुपये दिए और इशारा पाते ही एसीबी की टीम ऑफिस के अंदर पहुंच गयी और रिश्वत के १५००० रुपये देते हुए रंगे हाथों गिरफ्तार किया। एसीबी की टीम तनुजा सोलंकी के घर की भी तलाशी ले रही है।
नगर पालिका नाथद्वारा के उपाध्यक्ष परेस सोनी ने बताया कि इस आयुक्त ने यहाँ पर लूट मचा रखी थी। तीन मामले तो पहले ही एसीबी में चल रहे है।  हर छोटे मोठे काम के लिए लोगों से रिश्वत लेना आम बात थी इसके लिए। जानकारी के अनुसार तनुजा सोलंकी जैसलमेर की है और उन्हें नाथद्वारा नगर पालिका में किसी बड़े नेता की सिफारिश पर लगाया गया था।

2 COMMENTS

LEAVE A REPLY