ज़िंदा हो तो साथ चलो ,..जिस्म में लहू है तो साथ चलो,.. ज़मीर मरा ना हो तो साथ चलो,.. तुम्हारी भी बेटी हो तो साथ चलो .

बिहार के मुजफ्फर पुर और यु पी के देवरिया पर एक आवाज़ ,..  Akku Talk का एक विडियो देखिये ,..

वैसे देश की ग़रीब और अनाथ बच्चियों के लिए कौन सोचता है? जिन्हें सिगरेट से जलाया गया, रॉड से पीटा गया, नींद की गोलियां देकर बलात्कार किया गया, गर्म लोहे से दागा गया. फिर भी वे जिंदा हैं. इस दागदार दुनिया के बावजूद कुछ उम्मीदें बचीं हैं.

हम कामना करें अक्षम्य बर्बरता और असमानताओं के हम कभी आदी ना हों. घोर दुखों के बीच खुशी के अंकुर तलाश लें. लजाते सौन्दर्य का उसकी खोह तक पीछा करें और सबसे अहम है न्याय के लिए उम्मीद बनी रहे.

न्याय के लिए उम्मीद फिर भी मत छोडिये अपने अन्दर के मरे हुए इंसान को जगाइए ,.. जिम्मेदारों से सवाल कीजिये ,.. अपने ऊपर से हिन्दू मुस्लिम की खाल हटाकर एक बार इंसान बन कर आवाज़ उठाइये सत्ता की कुर्सियों पर बैठे लोगों से सवाल कीजिये अपने ज़िंदा होने का सबुत दीजिये 

विडियो को शेयर कीजिये और चेनल को सबस्क्राइब जरूर कीजिये

LEAVE A REPLY