उदयपुर। स्वच्छता की रेंकिंग के लिए उदयपुर नगर निगम ने खुद को भले 70 प्रतिशत से ज्यादा नंबर देदिए हो लेकिन असल हालत कुछ और ही है। नगर निगम में शिकायत करने पर भी कारवाई नहीं हो रही तो शोशल मीडिया पर शहरवासी गली मोहल्लों की गन्दगी की फोटो पोस्ट कर महापौर और पार्षदों से जवाब मांग रहे है। सफाई का यह आलम है कि चाहे नगर निगम कितने भी दावे करे लेकिन कई वार्डों की हालत खराब है। घर घर कचरा निस्तारण शहर के कई हिस्सों में नहीं हो रहा है जिसकी शिकायत के बाद भी कोई कारवाई नहीं है।
स्वच्छ भारत अभियान के तहत उदयपुर शहर की रेंकिंग होने वाली है। पिछले वर्ष यह सुन्दर शहर काफी पिछड़ गया था लेकिन इस वर्ष सुधार के दावे करते हुए उदयपुर नगर निगम ने अपने आपको १४०० में से १०१७ अंक दिए है और शहर स्वच्छ होने का दावा किया है। नगर निगम के इस दावे की पोल शहर वासियों द्वारा फेसबुक और whatsapp पर की गयी पोस्ट खोलती है कि शहर में कितनी सफाई हो रही है।

वार्ड 22 जीतू केदावत की फेसबुक पोस्ट .

वार्ड २२ के रहने वाले जीतू केदावत ने अपनी फेसबुक पोस्ट में वार्ड की सड़कों पर कीचड़ आदि के फोटो पोस्ट कर अपनी कोलोनी का दर्द उजागर करते हुए लिखा।
“वार्ड 22 हिरण मगरी सेक्टर 8 की दुर्दशा देखीए शहर के बीचो बीच स्मार्ट सिटी उदयपूर मे एक एसी कोलोनी जिसका विकास 20 वर्ष से नहीं हो पाया है। कहने को यू आईटी है नगर निगम हे मगर आज बीजेपी का बोर्ड बनने के बाद कभी कोई अधिकारी तो बहुत दूर की बात वार्ड पार्षद भी सूध लेने को तैयार नहीं”
250 लोगो ने सभी विभागो मे शिकायत कर दी पर कोई ध्यान नहीं दे रहा ना रोड है ना नालीया कच्ची बस्ती भी इससे सून्दर है। 4 साल से पार्षद हो या अधिकारी सिर्फ टालने का कार्य जरूर किया है। रोड नहीं नाली नहीं रोड लाईट तक नहीं है। कोलोनी मे चोरो का आतन्क है पार्षद साहब का बोर्ड जरूर साफ सूथरा है ”

इसके अलावा एक शहर वासी कपिश भल्ला ने वार्ड 48 में फैली अव्यवस्थाओं को उजागर करते हुए फेसबुक पर नगर निगम से जवाब माँगा
कपिश भल्ला ने लिखा है –

वार्ड 48 , कपिश भल्ला की फेसबुक पोस्ट से .

ऐसे कैसे चलेगा।
पुर्ण उदयपुर को अगर स्मार्टसिटी के तमगे से एक बार जो ओर नवाज़ा गया उसमे 55 वार्डो का सहयोग है तो वार्ड 48 का महा सहयोग है पुर्ण वार्ड 48 के क्षेत्रवासियों ने श्री पाषर्द महोदय को एक मात्र मिले संवैधानिक अधिकार मताधिकार का प्रयोग कर जीत का सेहरा बंधाया ओर आज वही बाराती यानी क्षेत्रवासी वार्ड में उपजी समसयाओ से झुंज रहे है लगभग पिछले 6 दिन से बडिहोली मुख्यमार्ग पर बिन बरसात के ये नज़ारा देखने को मिल रहा है इसी मार्ग से पार्षद महोदय भी अपने जीविकोपार्जन के स्थान यानी नोकरी करने जाते है परंतु क्षेत्रवासियों को समसया से निजात नहीं दिला रहे है क्षेत्र के सभी व्यवसायी भी इस समस्या से परेशान है दुकानों के बाहर खड़े ग्रहाको को आने जाने वाले वाहन छींट जाते है दुकान में आने वाले ग्रहाक दुकान को गंदी कर रहे है समस्या को क्षेत्रवासियों में आक्रोश है कृपाकर समस्या से निजात प्रदान करा क्षेत्रवासियों को अनुग्रहित करे

ward 48

नगर के 55 वार्ड है और इन्हीं 55 में से एक वार्ड नंबर 48 जहां सब कार्य नियमों के तहत होते रहते हैं पर जब भी कुछ होता है तब क्षेत्रवासियों को एक अजीब नजारा देखने को मिलता है अब इन फोटो को ही देखिए कुछ दिन से ठेकेदार के द्वारा चौधरियों की गली में नाली का निर्माण का कार्य किया जा रहा था और नाली का निर्माण भी कर दिया गया लेकिन क्षेत्रवासियों को पानी की समस्या से ना झुझना पढ़े इस हेतु क्षेत्र में एक हैंडपंप लगाया गया जिसे नाली नाली निर्माण की बची खुची सामग्री से ढक दिया गया जिससे क्षेत्रवासी हैंडपंप द्वारा पानी नहीं भर पा रहे हैं कृपा कर हैंडपंप को इस सामग्री से स्वतंत्र करावे
यह सिर्फ उदाहरण है ऐसे कई पोस्ट कई फोटो लोगों ने उदयपुर नगर निगम को समर्पित किये है जो शहर की अव्यवस्थाओं और गन्दगी की गाथा गातें है।

LEAVE A REPLY