राजस्थान राज्य एवं अधीनस्थ सेवाएं संयुक्त प्रतियोगी (आरएएस प्री) परीक्षा रविवार को होगी। नकल और किसी भी प्रकार की गड़बड़ी से बचने के लिए आरपीएससी ने अभ्यर्थियों के लिए इस बार नियम और भी कठोर कर दिए हैं। अभ्यर्थियों के लिए आरपीएससी ने ड्रेस कोड लागू किया है, जिसके तहत जेवर, घड़ी यहां तक की जूते पहनने पर भी रोक होगी। ड्रेस कोड के अनुसार महिला अभ्यर्थी सलवार सूट, साड़ी, आधी आस्तीन का कुर्ता पहन सकेंगी। महिलाएं हाफ स्लीव्ज के कुर्ते व ब्लाउज ही पहन सकेंगी, साथ ही बालों में साधारण रबर बैंड और चप्पल या खुले सेंडल ही पहनने की अनुमति होगी। पुरुष अभ्यर्थी हाफ स्लीव्ज की शर्ट, कुर्ता, पायजामा व पैंट पहन सकेंगे, उन्हें भी जूते पहन कर आने की मनाही होगी। इसके अलावा घड़ी, सनग्लासेज, बैल्ट, ताबीज, हैंड बैंड व टोपी पहन कर आने पर भी रोक लगाई गई है।

नकल रोकने के लिए पूरी तैयारियां कर ली गई हैं।
जयपुर जिले में 327 परीक्षा केन्द्रों पर एक लाख 29 हजार 560 परीक्षार्थी इस प्रतियोगी परीक्षा में प्रविष्ट होंगे। परीक्षा सुबह 10 से दोपहर 1 बजे तक होगी। अतिरिक्त जिला कलक्टर (प्रथम) पुखराज सैन ने परीक्षा के सफ ल संचालन के लिए अधिकारियों को जिले के सभी परीक्षा केन्द्रों पर सुरक्षा एवं तलाशी की पुख्ता व्यवस्थाएं करने के निर्देश दिए।
जयपुर में 59 फ्लाइंग स्क्वॉड का गठन किया गया है। परीक्षा केन्द्रों पर अभ्यर्थियों की गहन सुरक्षा जांच की जाएगी। परीक्षार्थियों को नीली स्याही का पारदर्शी पेन ले जाना होगा। परीक्षार्थियों की सुविधा के लिए रेलवे ने 16 गाडिय़ों में 30 साधारण श्रेणी के डिब्बे बढ़ाए हैं। जिले में परीक्षा से संबंधित गतिविधियों की मॉनिटरिंग के लिए कलक्ट्रेट के कमरा नम्बर 116 में एक नियंत्रण कक्ष की स्थापना की गई है। नियंत्रण कक्ष 4 अगस्त को सुबह 9.30 से सांय 6 बजे तक तथा परीक्षा के दिन 5 अगस्त को सुबह 8 से परीक्षा समाप्ति के बाद परीक्षा से संबंधित समस्त कार्य पूर्ण होने तक कार्य करेगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here