उदयपुर। विश्वविद्यालयों में छात्रसंघ चुनाव को लेकर अभी कोई कार्यक्रम तय नही हुआ है, लेकिन अभी से छात्र राजनीति तेज हो गई है। उदयपुर के सुविवि में आज एनएसयूआई ने प्रशासनिक भवन मे जोरदार प्रदर्शन किया। सरकार और विश्वविद्यालय द्धारा इस बार छात्रसंघ अध्यक्ष पद को छोड़कर बाकी तीन पदों पर चुनाव नहीं कराने का विचार चल रहा है, जिसका एनएसयूआई ने विरोध किया है।
सुखाडिया विश्वविद्यालय के प्रशासनिक भवन के बाहर एनएसयूआई के कार्यकर्ता इकठ्ठे हुए सरकार की ओर से बनाई गई कमेठी का विरोध किया। एनएसयूआई के कार्यकर्ताओं ने पहले तो प्रशासनिक भवन के बाहर नारेबाजी की लेकिन कुछ देर बाद कार्यकर्ता प्रशासनिक भवन में अंदर घुस गये ओर जोरदार नारेबाजी करने लगे। एनएसयूआई के सभी कार्यकर्ता कुलपति ने मिलने की कोशिश करने लगे लेकिन पुलिस ने उन्हे बाहर ही रोक लिया। इसके बाद एक प्रतिनिधिमंडल ने कुलपति से मुलाकात की ओर अपनी मांगों से अवगत कराया। एन एस यु आई के जिलाध्यक्ष कुलशेष चौधरी ने कहा कि आनन फानन में इस तरह का निर्णय लेने जा रही है जो कि गलत है कई ऐसे छात्र भी है जो ​कि वर्ष भर अध्यक्ष के अलावा अन्य पदों के लिए तैयारी कर रहे है ​जिनकों साथ सरकार कुठाराघात करने जा रही है। एनएसयूआई के प्रदेश सचिव भावना मेघवाल ने साफ किया कि अगर इस तरह का आदेश जारी करना है आगामी वर्ष से यह आदेश जारी करे अभी जिन छात्रों ने चुनाव लडने की तैयारी की है उनको चुनाव लडने दिया जाए।
एनएसयूआई के प्रदेश सचिव रोहित पालीवाल का कहना है कि विवि में अध्यक्ष के साथ-साथ उपाध्यक्ष महासचिव और सचिव पद पर भी चुनाव होने चाहिए। इस तरह तीन पदों पर चुनाव नहीं करवाने का फैसला छात्र राजनीति के खिलाफ होगा। एनएसयूआई ने प्रशासनिक भवन प्रदर्शन के बाद रजिस्ट्रार और कुलपति को राज्यपाल, मुख्यमंत्री, उच्चशिक्षा मंत्री के नाम ज्ञापन सौंपकर मांग की है कि छात्रसंघ चुनाव में किसी तरह का बदलाव नहीं कर पूर्ववत तरीके से ही सभी चारो पदों पर चुनाव होने चाहिए। प्रदर्शन के दौरान प्रतापनगर थाने से पुलिस जाब्ता मौके पर तैनात रहा। पुलिस ने छात्रों के प्रदर्शन को लेकर वीडियो ग्राफी भी करवाई।

LEAVE A REPLY