पोस्ट न्यूज़। 74 दिन की लंबी मशक्कत के बाद शुक्रवार को राजस्थान भाजपा को प्रदेशाध्क्ष मिल ही गया। राज्यसभा सांसद मदन लाल सैनी को भाजपा का प्रदेशाध्यक्ष बनाया गया है। नई दिल्ली से शुक्रवार शाम को सैनी के प्रदेशाध्यक्ष बनने के आदेश जारी हुए। सैनी के नाम पर प्रदेश नेतृत्व और केंद्रीय नेतृत्व दोनों ही सहमत नजर आए।
मदन लाल सैनी को इसी साल राज्यसभा का सांसद बनाया गया था। सैनी भाजपा संगठन में कई महत्वपूर्ण पदों पर रह चुके हैं। सैनी तीन बार प्रदेश महामंत्री के अलावा किसान मोर्चा के राष्ट्रीय महामंत्री के पद पर रह चुके हैं। एक बार वे विधायक भी रहे। हालांकि एमपी और एमएलए के चुनाव में उन्हें हार का भी सामना करना पड़ा था।गौरतलब है कि अशोक परनामी ने कामकाज में व्यस्तता का हवाला देते हुए गत 16 अप्रेल को बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष पद से इस्तीफा दे दिया था। इसके चलते अप्रेल से प्रदेश में भाजपा प्रदेशाध्यक्ष का पद खाली था। इसके लिए राजस्थान के कई मंत्रियों और नेताओं ने पिछले कई दिनों से दिल्ली में डेरा डाले हुए थे।
सीकर के मदनलाल सैनी को राजस्थान भाजपा प्रदेशाध्यक्ष की कमान, जानिए सैनी की कुछ बातें
मदनलाल सैनी वर्तमान में राज्य सभा के सासंद है। वर्ष 1970 मे विधि स्नातक बनकर वकालत करने वाले सैनी ने अपने राजनीतिक जीवन की शुरुआत विधार्थी परिषद के जिला और प्रदेश पदाधिकारी बनने से की। प्रदेश के मजदूरों के लिए भारतीय मजदूर संघ के प्रदेश महामंत्री बनकर सैनी ने लम्बे संघर्ष के बल पर राज्य में अपनी अलग पहचान बनाई।
अशोक परनामी के इस्तीफा देने के बाद नए प्रदेशाध्यक्ष पद के कई नेताओं के नाम सामने आए थे। इनमें गजेंद्र सिंह शेखावत नाम सबसे पहले लिया जा रहा था। लेकिन राज्य और केंन्द्र में एक सहमति नहीं बनने से फाइनल नाम पर घोषणा नहीं हो सकी। आखिरकार 74 दिन बाद शुक्रवार को मदन लाल सैनी के नाम पर मुहर लग गई।

LEAVE A REPLY