post न्यूज़। जरूरत मंदों के घरों तक राशन पानी पहुंचाने के लिए जाने जाने वाले डूंगरपुर के एम्एमबी ग्रुप ने जश्न ए ईद मिलादुन्नबी के मोके पर समाज के उन लोगों तक भी शांति और सुकून का सन्देश पहुंचाया जिनके कर्मो के चलते क़ानून ने सजा दी है।
जश्न ए ईद मिलादुन्नबी के पर एमएमबी ग्रुप ने डूंगरपुर कारागृह में बंद कैदियों को फल फ्रूट वितरित किये। एमएमबी ग्रुप के अध्यक्ष नूर मोहम्मद मकरानी ने जेल में बंद कैदियों को हज़रत मोहम्मद स.अ.स. के आदर्शों को बताते हुए कहा की कानून ने जो सजा दी है उसको सबक समझ कर सही राह पर चलना चाहिए और जेल से बाहर आकर सच्ची राह को अपना समाज में मिसाल कायम करनी चाहिए। नूर मोहम्मद मकरानी ने बताया कि जश्न ए ईद मीलादुन्नबी के मोके पर जेल में बंद कैदियों में फल फ्रूट वितरण कर हम यह सन्देश पहुचाना चाहते है कि चाहे कोई वजह रही हो जेल में बंद कैदी भी इंसान है और उन्हें सच्चाई और धर्म गुरुओं के आदर्शों की राह दिखाते हुए मुख्य धारा में लाने का प्रयास होना चाहिए। अगर हमारे एक प्रयास से आज जेल में बंद कैदी अपनी बाकी की ज़िन्दगी सही और सच्चाई के राह पर ले जाते है तो यह हर समाज के लिए गर्व की बात होगी। इस मोके पर ब्राहमण महासभा के संरक्षक धर्मेन्द्र शर्मा ने भी भाग लिया।
गौरतलब है कि डूंगरपुर का एमएमबी बी ग्रुप गरीबों और जरूरत मंदों के घरों तक राशन पानी पहुचाने के लिए जाना जाता है। धर्म और जात पात के भेदभाव से ऊपर उठ कर जरूरतमंदो की सहायता एमएमबी ग्रुप द्वारा की जाती है। एमएमबी ग्रुप के अध्यक्ष नूर मोहम्मद मकरानी निस्वार्थ इस कार्य को सालों से अंजाम देते आरहे है और हर एक धर्म समाज के तीज त्योहारों पर समाज से जुड़े सोहार्द और भाईचारे के कार्यों को अंजाम देते आरहे है। जिला प्रशासन की तरफ से नूर मोहम्मद मकरानी को कई बार सम्मानित भी किया जा चुका है।

LEAVE A REPLY