उदयपुर। हिंदुस्तान जिंक की रामपुरा आगुचा माइंस को क्वालिटी सर्किल फोरम ऑफ इंडिया द्वारा आयोजित 45वें इंटरनेशन कन्वेंशन में प्लेटिनम अवार्ड से सम्मानित किया गया। फोर्थ वेव टीम के सदस्य सौरव देबनाथ, निधि अग्रवाल और अभिषेक सिंह ने इस कन्वेंशन में रामपुरा आगुचा माइन का प्रतिनिधित्व किया। इस टीम ने अपनी केस स्टडी अपग्रेड लाइन ऑफ टेली रिमोट प्रोडक्शन बोगिंग शीर्षक के साथ प्रस्तुत कर सर्वोच्च पुरस्कार अपने नाम किया। इसके साथ ही आगुचा की चार अन्य टीमों ने क्वालिटी सर्किल फोरम ऑफ इंडिया 2020 की ओर से आयोजित 34वें राष्ट्रीय सम्मेलन में भी हिस्सा लिया और कई पुरस्कार जीते। कूलिंग क्रेकर्स एंड कायड़ हौलर्स को पार एक्सीलेंस अवार्ड, चेंज मूवर्स को एक्सीलेंस अवार्ड मिला। टीम रामास ने अधिवेशन में विशिष्ट पुरस्कार प्राप्त किया। कूलिंग क्रेकर्स एंड कायड़ हौलर्स व चेंज मूवर्स अक्टूबर 2021 में आयोजित होने वाली इंटरनेशनल क्वालिटी कंट्रोल सर्किल के में भाग लेगीं। गौरतलब है कि हिंदुस्तान जिंक नवाचार और उत्कृष्ट प्रदर्शन को बढ़ावा देने के लिए गुणवत्ता पर अधिक बल देता है। गुणवत्ता लक्ष्य के लिए तय मानकों को प्राप्त करने और बनाए रखने में कंपनी प्रतिबद्ध है जो व्यापारिक लक्ष्यों को भी हासिल करने में मदद करते हैं। इससे पहले हिंदुस्तान जिंक के पंतनगर मेटल प्लांट ने क्वालिटी काॅन्सेप्ट अवाड्र्स 2020 में 34वें राष्ट्रीय सम्मेलन में सर्वोच्च उत्कृष्टता पुरस्कार जीता था जो अक्टूबर 2021 में आयोजित होने वाले सम्मेलन के लिए क्वालिफाई किया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here